Gold-Silver Price Today: सोने-चांदी के गहने खरीदने की है प्लानिंग तो अभी भी है मौका, जानिए गिरावट के बाद कितनी हो गई कीमत!

gold silver

Gold-Silver Price Today: बजट 2021 का सोने-चांदी की कीमतों (Gold-Silver Price today) पर बड़ा असर देखने को मिल रहा है। बजट वाले दिन सोना गिरा था और चांदी महंगी हुई थी, लेकिन आज दोनों में ही गिरावट देखी जा रही है। जानिए क्या हो गई हैं नई कीमतें।

Gold-Silver Price Today: बजट में सोने-चांदी पर कस्टम ड्यूटी घटाए जाने के बाद बाजार में सोने-चांदी की कीमतों पर बड़ा असर देखने को मिल रहा है। बजट के दिन सोने की कीमतों (Gold price today) में तगड़ी गिरावट और चांदी की कीमतों (Silver price today) में तेजी देखने को मिली थी। आज सोना और चांदी दोनों में ही गिरावट देखने को मिल रही है। पिछले सत्र में 47750 रुपये प्रति 10 ग्राम के स्तर पर बंद हुआ सोना आज 350 रुपये की गिरावट के साथ 47400 रुपये प्रति 10 ग्राम के स्तर पर खुला है। वहीं दूसरी ओर पिछले सत्र में 68565 रुपये प्रति किलो के स्तर पर बंद हुई चांदी आज 782 रुपये की गिरावट के साथ 67783 रुपये प्रति किलो के स्तर पर खुली है।

वैश्विक स्तर पर बहुमूल्य धातुओं की कीमतों में गिरावट के चलते बुधवार को दिल्ली सर्राफा बाजार में सोना 232 रुपये घटकर 47,387 रुपये प्रति 10 ग्राम रह गया। एचडीएफसी सिक्योरिटीज ने इसकी जानकारी दी। इससे पहले मंगलवार को सोना 47,619 रुपये प्रति 10 ग्राम पर रहा था। चांदी भी 1,955 रुपये गिरकर 67,605 रुपये प्रति किलोग्राम रह गयी। चांदी मंगलवार को 69,560 रुपये प्रति किलोग्राम रही थी। अंतरराष्ट्रीय बाजार में, सोना गिरावट के साथ 1,835 डॉलर प्रति औंस रह गया था जबकि चांदी 26.78 डॉलर प्रति औंस पर कारोबार कर रही थी। एचडीएफसी सिक्योरिटीज के वरिष्ठ विश्लेषक (जिंस) तपन पटेल ने कहा, ‘‘शेयरों में तेजी तथा डॉलर के मजबूत होने से सोने पर दबाव बना रहा।’’ मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज के उपाध्यक्ष (जिंस बाजार अनुसंधान) नवनीत दमानी ने कहा कि सोना मौजूदा हालात में वैश्विक बाजार में 1820- 1860 डालर प्रति औंस और स्थानीय बाजार में 47,700- 48,300 रुपये प्रति डालर के बीच रह सकता है।

मजबूत हाजिर मांग के कारण कारोबारियों ने ताजा सौदों की लिवाली की जिससे वायदा कारोबार में बुधवार को सोना 65 रुपये की तेजी के साथ 47,890 रुपये प्रति 10 ग्राम हो गया। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज में अप्रैल महीने में डिलिवरी वाले सोना वायदा की कीमत 65 रुपये यानी 0.14 प्रतिशत की तेजी के साथ 47,890 रुपये प्रति 10 ग्राम हो गई। इसमें 13,392 लॉट के लिये कारोबार किया गया। बाजार विश्लेषकों ने कहा कि कारोबारियों द्वारा ताजा सौदों की लिवाली से सोना वायदा कीमतों में तेजी आई। अंतरराष्ट्रीय बाजार, न्यूयॉर्क में सोना 0.22 प्रतिशत की तेजी दर्शाता 1,837.40 डॉलर प्रति औंस चल रहा था।

बजट के दिन सोने में करीब 1324 रुपये की गिरावट देखी गई थी, जिसके बाद सोना 47,520 रुपये प्रति 10 ग्राम के स्तर पर पहुंच गया। इससे पहले सोना 48,844 रुपये प्रति 10 ग्राम के स्तर पर बंद हुआ था। वहीं दूसरी ओर चांदी में करीब 3461 रुपये की तेजी देखी गई थी, जिसके बाद चांदी 72,470 रुपये प्रति किलो के स्तर पर पहुंच गई थी। इससे पिछले सत्र में चांदी 69,009 रुपये प्रति किलो के स्तर पर बंद हुई थी।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister Nirmala Sitharaman) ने अपने बजट प्रस्तावों में सोने और चांदी पर आयात शुल्क (import tax) में भारी कटौती की घोषणा की थी। सीतारमण ने सोने और चांदी पर आयात शुल्क में 5 फीसदी की कटौती की है। फिलहाल सोने और चांदी पर 12.5 फीसदी आयात शुल्क चुकाना पड़ता है। इस तरह से अब सोने और चांदी पर सिर्फ 7.5 फीसदी इंपोर्ट ड्यूटी चुकानी होगी। इससे सोने और चांदी की कीमतों में कमी आएगी। वित्त मंत्री ने कहा कि जुलाई 2019 में सोने पर आयात शुल्क 10 फीसदी से बढ़ाकर 12.5 फीसदी किया गया था। इसके चलते सोने के दाम काफी बढ़े हैं। इसे देखते हुए सरकार सोने और चांदी पर सीमा शुल्क को तर्कसंगत बनाएगी। इस घोषणा के बाद सोने-चांदी की कीमतों में गिरावट आएगी। भारत बड़े पैमाने पर सोने का आयात करता है। चीन के बाद भारत सोने का सबसे बड़ा खरीदार है। वित्त मंत्री के इस फैसले से सोने की तस्करी पर भी अंकुश लगेगा। हाल में सोने की तस्करी में तेजी आई है।

ये साल सोने के लिए बहुत ही शानदार (Gold Price in 2020) साबित हुआ है। इस साल अब तक सोने की कीमत करीब 28 फीसदी तक बढ़ी है। अगस्त के महीने में तो सोने-चांदी ने एक नया रेकॉर्ड ही बना दिया था और अपना ऑल टाइम हाई का स्तर छू लिया था। ऐसा नहीं है कि सिर्फ भारत में ही सोने की कीमत बढ़ी है। इस साल वैश्विक बाजार में भी सोना करीब 23 फीसदी महंगा हुआ है। इससे पहले 2019 में भी सोने के दाम में बढ़ोतरी की दर डबल डिजिट में थी, इस बार भी सोने दाम में बढ़ोतरी की दर डबल डिजिट में है।

2020 में सोने के दाम में तगड़ी तेजी की वजह कोरोना वायरस रहा, जिसकी वजह से लोग निवेश का सुरक्षित ठिकाना ढूंढ रहे थे। सोने में निवेश हमेशा से ही सुरक्षित रहा है। कोरोना की वजह से शेयर बाजार में लोगों ने निवेश कम कर दिया, क्योंकि शेयर बाजार में निवेश रिस्की होता है। पिछले साल जनवरी-फरवरी में तो सोना धीरे-धीरे बढ़ रहा था, लेकिन मार्च में भारत में कोरोना वायरस की दस्तक के बाद इसने स्पीड पकड़ ली।

अगस्त में छुआ ऑल टाइम हाई, 10 फीसदी तक गिरा भी

सोने ने अगस्त के महीने में अपना ऑल टाइम हाई छू लिया था। सोना 56,200 रुपये प्रति 10 ग्राम के स्तर तक जा पहुंचा था। चांदी ने भी अगस्त में अपना ऑल टाइम हाई छुआ था और वह 77,840 रुपये प्रति किलो के करीब जा पहुंची थी। हालांकि, अगस्त में ही बड़ी गिरावट भी आई और सोना अगस्त महीने में करीब 10 फीसदी तक लुढ़का। ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि कोरोना वायरस वैक्सीन की खबरें आने लगी थीं, जिसके चलते लोगों ने फिर से शेयर बाजार समेत बाकी रिस्की प्लेटफॉर्म्स का रुख करना शुरू कर दिया था।

क्यों आ रही है सोने में गिरावट?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *