Delhi CM Arvind Kejriwal claims Amit Shah to be PM in 2025 if NDA wins; Modi will finish term, says Union minister

So I asked the BJP, who is your PM candidate? If they form govt, they will first tackle (UP CM) Yogiji. Then Modiji’s favorite, Amit Shah will be the PM. So, I want to alert the people of the country, that Modiji is not asking for a vote for himself, He is seeking votes to make Amit Shah PM. I want to ask Modiji and Amit Shahji, Who will fulfill Modiji’s guarantee? will Amit Shah do it?

Delhi Chief Minister Arvind Kejriwal’s recent assertions have injected new vigor into the political discourse surrounding the upcoming elections. By speculating on Amit Shah’s potential ascension to the Prime Minister’s office in 2025, Kejriwal has ignited debates about the BJP’s leadership dynamics and electoral strategy. His claims suggest a strategic move by the BJP, with Modi seemingly positioning Shah as his successor, prompting questions about the party’s long-term vision and succession planning.

Delhi Chief Minister Arvind Kejriwal predicts that if the NDA wins the 2024 elections, Amit Shah will become the Prime Minister in 2025.

Moreover, Kejriwal’s promise of full statehood for Delhi as part of an envisaged INDIA bloc government underscores his commitment to bolstering regional autonomy and challenging central authority. By positioning AAP as a key player in national politics, Kejriwal seeks to capitalize on voter dissatisfaction with traditional political structures and offer an alternative narrative of empowerment and decentralization.

  1. Delhi Chief Minister Arvind Kejriwal predicts that if the NDA wins the 2024 elections, Amit Shah will become the Prime Minister in 2025. Kejriwal alleges that Modi seeks votes not for himself but to make Shah the PM, raising questions about the BJP’s leadership strategy.
  2. Kejriwal asserts that an INDIA bloc government will be formed after the elections, with AAP’s participation, promising full statehood for Delhi and autonomy from central control. He pledges to work tirelessly to end what he perceives as a dictatorship and ensure Delhi’s empowerment.
  3. Kejriwal accuses the BJP of aiming for 400 seats to alter the Constitution and abolish reservations, vowing to defend democracy vigorously. He contrasts AAP’s focus on development in Delhi with the BJP’s alleged lack of significant accomplishments during its tenure.

At the heart of Kejriwal’s narrative lies a critique of the BJP’s governance model, characterized by what he perceives as a lack of tangible achievements and a focus on divisive rhetoric over substantive issues. By contrasting AAP’s track record of development in Delhi with the BJP’s alleged shortcomings, Kejriwal aims to appeal to voters’ desire for effective governance and inclusive policies.

During these political maneuvers, Kejriwal’s ongoing legal battles, notably his interim bail in a money laundering case, add a layer of complexity to the political landscape. While providing him with temporary respite, these legal challenges also highlight the precarious nature of his political standing and the potential implications for his future aspirations.

In sum, Kejriwal’s recent statements reflect a broader strategy aimed at reshaping the political narrative, challenging traditional power structures, and positioning AAP as a credible alternative on the national stage. As the electoral contest intensifies, his assertions are likely to fuel further debates and shape the discourse leading up to the polls.

Delhi CM Arvind Kejriwal claims Amit Shah to be PM in 2025 if NDA wins; Modi will finish term, says Union minister Read More

“Delhi Excise Policy Case: Kejriwal Skips Seventh ED Summons Again”

Delhi’s Chief Minister, Arvind Kejriwal, has once again evaded appearing before the Enforcement Directorate (ED) for questioning regarding the alleged money laundering case related to irregularities in the now-defunct Delhi excise policy of 2021-22. This marks the seventh instance of Kejriwal skipping the summons.

In response, the Aam Aadmi Party (AAP) released a statement asserting Kejriwal’s decision not to comply with the ED’s summons, citing that the matter is currently sub-judice. The party emphasized that the next court hearing is scheduled for March 16, urging the ED to await the court’s decision rather than persistently issuing summons.

Despite the ED’s filing of a complaint against Kejriwal for non-compliance, the court has granted him an exemption from appearing personally until March 16. Kejriwal, appearing virtually before the court, explained his inability to attend physically due to the ongoing Budget session of the Delhi assembly.

The AAP reiterated its commitment to the Opposition Indian National Developmental Inclusive Alliance (INDIA), affirming that they will not withdraw from the alliance despite pressure from the central government. They condemned what they perceive as attempts to coerce them through the repeated summons.

Kejriwal has consistently labeled the summons as “illegal” since November and has demanded their withdrawal. Meanwhile, he was scheduled to address the assembly session on Monday before commemorating the one-year imprisonment of his former deputy, Manish Sisodia, in connection with the excise policy case.

In response, leaders from the Bhartiya Janata Party (BJP) criticized Kejriwal’s actions, accusing him of evading investigation and condoning corruption. Delhi BJP chief Virendra Sachdeva described Kejriwal’s decision to commemorate a person’s jail term for corruption as “shameful,” asserting that the people of Delhi will not forgive such actions.

“Delhi Excise Policy Case: Kejriwal Skips Seventh ED Summons Again” Read More
Congress and AAP Finalize Seat-Sharing Deal:

Congress and AAP Finalize Seat-Sharing Deal: AAP to Contest 4 Seats, Congress to Contend in 3 Including Chandni Chowk

Ahead of the Lok Sabha elections, a coalition has finally been formed between AAP and Congress. In a joint press conference held today in Delhi, details regarding seat-sharing were disclosed. Congress leader Mukul Wasnik informed that after extensive discussions, a final agreement on seat-sharing between AAP and Congress has been reached. According to Wasnik, AAP will contest on 4 seats in Delhi, while Congress will compete on 3 seats, including Chandni Chowk. Additionally, Congress will field its candidate in the Chandigarh Lok Sabha seat.

New Delhi: Congress and Aam Aadmi Party (AAP) have announced seat-sharing for the upcoming Lok Sabha elections, with AAP contesting on four seats and Congress on three seats in Delhi. A senior Congress leader shared this information. Furthermore, AAP will also contest in Gujarat’s Bharuch and Bhavnagar constituencies, as well as Haryana’s Kurukshetra Lok Sabha seat. Congress senior leader Mukul Wasnik, along with AAP leaders Sandeep Pathak, Sourav Bharadwaj, and Atishi, made the announcement during a joint press conference.

They stated that AAP will contest in South Delhi, West Delhi, East Delhi, and New Delhi parliamentary constituencies, while Congress will contest in Chandni Chowk, North West Delhi, and North East Delhi seats. The national capital has a total of seven Lok Sabha seats, all of which were won by the Bharatiya Janata Party (BJP) in the previous Lok Sabha elections. Wasnik mentioned that AAP will also contest in Gujarat’s Bharuch and Bhavnagar Lok Sabha seats, as well as in Haryana’s Kurukshetra seat. It was decided after lengthy discussions that Congress will field its candidate from the Chandigarh Lok Sabha seat.

There has been a deadlock between both parties regarding Bharuch as senior Congress leader Ahmed Patel’s son Faisal Patel and daughter Mumtaz Patel opposed AAP being given this seat. Faisal and his sister Mumtaz were being considered for the Congress ticket from this seat. AAP had already announced its MLA Chetan Vasava as its candidate from the Bharuch Lok Sabha seat. Congress and AAP have decided to contest separately in Punjab. The Lok Sabha elections are proposed for April-May.

Congress and AAP Finalize Seat-Sharing Deal: AAP to Contest 4 Seats, Congress to Contend in 3 Including Chandni Chowk Read More

Aam Aadmi Party MLA’s aide arrested for taking bribe in Punjab’s Bathinda

A vigilance team on Thursday arrested Aam Aadmi Party (AAP) MLA Amit Ratan’s personal assistant Rashim Garg from Bhatinda Circuit House in Punjab for allegedly taking a bribe of Rs 4 Lakhs from a sarpanch.

Aam Aadmi Party MLA’s aide arrested for taking bribe in Punjab’s Bathinda

According to the officials, the sarpanch’s husband accused the MLA’s PA of demanding a bribe of Rs 5 lakhs by taking the name of Amit Ratan, after which the complainant reached the circuit house with the Vigilance team.

The PA was arrested red-handed from a vehicle at the circuit house.

“During the conversation between the two, the Vigilance officer reach the spot and arrested him red-handed with 4 lahks,” officials said. Further investigation into the matter is underway.

Aam Aadmi Party MLA’s aide arrested for taking bribe in Punjab’s Bathinda Read More
Arvind kejriwal mla vijender gupta

शपथ ग्रहण समारोह पर सियासत तेज, BJP विधायक ने अरविंद केजरीवाल को लिखी चिट्ठी

16 फरवरी यानी रविवार को अरविंद केजरीवाल कैबिनेट के सभी मंत्रियों के साथ दिल्ली के रामलीला मैदान में पद और गोपनीयता की शपथ लेंगे। लेफ्टिनेंट गवर्नर अनिल बैजल सभी को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाएंगे। शपथग्रहण कार्यक्रम में दिल्ली के सभी सरकारी विद्यालयों के शिक्षकों को उपस्थित रहने का आदेश दिया गया। इस मामले पर सियासत भी तेज हो गई है।

भाजपा के नवनिर्वाचित विधायक विजेंद्र गुप्ता ने शनिवार को आम आदमी पार्टी (आप) नेता अरविंद केजरीवाल को पत्र लिखकर उनसे उस परिपत्र को वापस लेने का अनुरोध किया, जिसमें दिल्ली के मुख्यमंत्री के रूप में उनके शपथ ग्रहण समारोह में सरकारी विद्यालयों के शिक्षकों के लिए उपस्थित होना अनिवार्य किया गया है।

दिल्ली की पिछली विधानसभा में विपक्ष के नेता रहे विजेंद्र गुप्ता ने शुक्रवार को जारी किये गये परिपत्र को तानाशाही करार दिया है और कहा कि इससे उनका यह विश्वास चकनाचूर हो गया है कि सत्ता में आने के बाद केजरीवाल का जोर शासन और लोकतांत्रिक संस्थानों को मजबूत बनाने पर होगा।

उन्होंने कहा इस आदेश की वजह से, 15000 शिक्षकों और अधिकारियों को शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होना होगा।

रोहिणी विधानसभा क्षेत्र से फिर निर्वाचित हुए गुप्ता ने कहा कि वह रविवार को रामलीला मैदान में केजरीवाल के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होंगे। गुप्ता की आपत्ति पर दिल्ली डायलॉग एवं डेवलपमेंट कमिशन के उपाध्यक्ष जस्मीन शाह ने कहा कि शिक्षक और प्राचार्य पिछले पांच वर्षों में दिल्ली के बदलाव के शिल्पी हैं और वे शपथ ग्रहण समारोह में आमंत्रित किये जाने के हकदार हैं।

 

शपथ ग्रहण समारोह पर सियासत तेज, BJP विधायक ने अरविंद केजरीवाल को लिखी चिट्ठी Read More
Chief-Electoral-Officer-Ranbeer-Singh

वोटिंग के आंकड़ों में 24 घंटे उलझी रही दिल्ली, देखिये- AAP के आरोप और EC के जवाब

दिल्ली विधानसभा चुनाव का फाइनल वोटिंग प्रतिशत जारी करने में चुनाव आयोग को पूरे 24 घंटे लग गए. दिल्ली में आम आदमी पार्टी ने विधानसभा चुनाव के वोटिंग के फाइनल आंकड़ो में देरी और गड़बड़ी करने को लेकर सवाल उठाए तो चुनाव आयोग ने देर शाम 62.59 प्रतिशत मतदान का अंतिम आंकड़ा जारी किया, जो 2015 के चुनाव से 5 फीसदी कम रहा. चुनाव आयोग ने कहा है कि हर बूथ से वोटिंग की डिटेल जुटाए जाने के बाद फाइनल आंकड़ा जारी किया गया है.

आम आदमी पार्टी द्वारा सवाल उठाए जाने के बाद चुनाव आयोग ने रविवार को देर शाम बताया कि इस बार दिल्ली में 62.59 फीसदी वोटिंग हुई है. कुल वोटिंग में 62.55 प्रतिशत महिलाओं और 62.62 प्रतिशत पुरुषों ने वोट डाला. साल 2015 में विधानसभा चुनाव में 67.47 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया था. इस तरह से इस बार पांच फीसदी कम वोटिंग रही.
  • दिल्ली चुनाव के फाइनल आंकड़े 24 घंटे बाद आए
  • आम आदमी पार्टी ने देरी पर उठाए सवाल

दरअसल दिल्ली विधानसभा चुनाव की वोटिंग के बाद शनिवार को चुनाव अयोग के ऐप पर पहले 57 फीसदी का अंतिम आंकड़ा दिखाया गया जो बाद में बढ़कर 61 फीसदी तक पहुंच गया. यही वजह रही कि आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह ने मतदान के आंकड़ों में गड़बड़ी का आरोप तक लगाया. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी सवाल खड़े हुए करते हुए कहा था कि चुनाव आयोग क्या कर रहा है?

फाइनल आंकड़े में देरी

वोटिंग प्रतिशत जारी करने में देरी पर दिल्ली के मुख्य चुनाव अधिकारी ने कहा कि हर पोलिंग स्टेशन से देर रात तक डेटा आते रहे. उन सब को जोड़कर फाइनल निष्कर्ष पर पहुंचने में वक्त लगा. उन्होंने बताया कि कई पोलिंग स्टेशन पर उपलब्ध कराए गए मोबाइल फोन में भी गड़बड़ी की शिकायत आ गई थी, जिसके चलते पूरा डेटा आने में थोड़ा ज्यादा वक्त लगा.

आप ने उठाए सवाल

आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने प्रेस कांफ्रेंस कर चुनाव आयोग पर सवाल उठाए थे कि वोटिंग संपन्न होने के इतने समय बाद तक मत प्रतिशत का आंकड़ा क्यों नहीं जारी किया गया है. लोकसभा चुनाव में 1 घंटे के अंदर चुनाव आयोग वोटिंग प्रतिशत बता देता है, दिल्ली जैसे छोटे राज्य में इतना विलंब क्यों?

संजय सिंह ने कहा कि चुनाव आयोग को स्पष्ट करना चाहिए कि कल से क्या खेल चल रहा है? कल चुनाव खत्म हो गए लेकिन अभी तक चुनाव आयोग के किसी अधिकारी ने वोटिंग प्रतिशत पर कोई अधिकृत बयान नहीं दिया है.

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने भी ट्वीट कर सवाल उठाए कि आखिर चुनाव आयोग ने वोटिंग के इतने समय बाद भी मत प्रतिशत क्यों नहीं जारी किए. मनीष सिसोदिया ने कहा कि बीजेपी के नेता मतदान के आंकड़े दे रहे हैं. उधर चुनाव आयोग मतदान ख़त्म होने के 24 घंटे के बाद तक नहीं बता पाया है कि वोटिंग कितने प्रतिशत हुई. आयोग कह रहा है कि अभी डेटा इकट्ठा किया जा रहा है.

क्या चल रहा है. क्या मतदान का फाइनल आंकड़ा बीजेपी ऑफिस से मिलना है आपको?

चुनाव आयोग ने जारी किए फाइनल आंकड़े

आम आदमी पार्टी द्वारा सवाल उठाए जाने बाद चुनाव आयोग ने रविवार को देर शाम बताया कि इस बार दिल्ली में 62.59 फीसदी वोटिंग हुई है. कुल वोटिंग में 62.55 प्रतिशत महिलाओं और 62.62 प्रतिशत पुरुषों ने वोट डाला. साल 2015 में विधानसभा चुनाव में 67.47 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया था. इस तरह से इस बार पांच फीसदी कम वोटिंग रही.

आम आदमी पार्टी द्वारा खड़े किए सवालों पर दिल्ली के मुख्य चुनाव अधिकारी रणबीर सिंह ने कहा कि शनिवार को देर शाम तक वोटिंग होती रही, जिसके चलते हर बूथ से आंकड़े जुटाने में वक्त लगा. दिल्ली के हर बूथ से वोटिंग की डिटेल जुटाए जाने के बाद फाइनल आंकड़ा जारी किया गया है.

दिल्ली के बल्लीमारान विधानसभा क्षेत्र में सबसे अधिक 71.6 फीसदी वोटिंग हुई. दिल्ली कैंट इलाके में सबसे कम 45.4 फीसदी वोटिंग हुई. ओखला विधानसभा क्षेत्र में 58.84 और सीलमपुर में 71.22 फीसदी वोटिंग हुई. इस तरह से उन्होंने दिल्ली की सभी 70 सीटों का फाइनल आंकड़ा दिया.

 

 

 

 

वोटिंग के आंकड़ों में 24 घंटे उलझी रही दिल्ली, देखिये- AAP के आरोप और EC के जवाब Read More
Delhi-Election

Delhi Election 2020: शाहीन बाग के बूथों पर उमड़ी मतदाताओं की भीड़, 400 मीटर तक लगी कतार

पिछले करीब डेढ़ महीने से शाहीन बाग में नागरिकता कानून के खिलाफ धरने पर बैठे लोगों के बीच दिल्ली विधानसभा चुनाव को लेकर उत्साह देखने को मिला। पूरी ओखला विधानसभा सीट और खासकर शाहीन बाग इलाके में शनिवार सुबह से ही मतदाता पोलिंग बूथ पर पहुंचने लगे। यहां भारी संख्या में महिला और पुरुष मतादाता वोट देने के लिए पहुंच रहे हैं। इनके अलावा यहां वृद्ध वोटरों की भी अच्छी-खासी संख्या है। मालूम हो कि शाहीन बाग इलाका ओखला विधानसभा क्षेत्र के अंदर आता है। यहां पिछले 15 दिसंबर से भारी संख्या में लोग नागरिकता कानून, एनपीआर और एनआरसी के विरोध में बैठे हुए हैं।

Shaheen Bagh Voting

वोटिंग के चलते आज धरनास्थल पर लोग नजर नहीं आ रहे हैं और यहां सन्नाटा पसरा हुआ है। पंडाल में इक्का-दुक्का लोग ही मौजूद हैं।
15 दिसंबर से यहां की सड़कें जाम हैं। लोगों को आने-जाने में परेशानी हो रही है। पिछले दिनों यहां गोलीबारी की घटना हो गई थी, जिसके बाद माहौल और भी ज्यादा गंभीर हो गया था। ओखला विधानसभा सीट से आम आदमी पार्टी ने अमानतुल्ला खान, भारतीय जनता पार्टी ने ब्रह्म सिंह और कांग्रेस ने परवेज हाशमी को उतारा है।

 

Delhi Election 2020: शाहीन बाग के बूथों पर उमड़ी मतदाताओं की भीड़, 400 मीटर तक लगी कतार Read More
Kapil Misra

Delhi Election 2020 LIVE: BJP प्रत्याशी कपिल मिश्रा को बड़ा झटका, AAP में शामिल हुए भाजपा के दिग्गज नेता

मॉडल टाउन विधानसभा से भाजपा के वरिष्ठ नेता व दो बार निगम पार्षद रहने के साथ निगम के महत्वपूर्ण पदों पर रहे राज खुराना आम आदमी पार्टी में शामिल हो गए हैं। मंगलवार को मॉडल टाउन से AAP विधायक व प्रत्याशी अखिलेश पति त्रिपाठी की मौजूदगी में पार्टी मुख्यालय में पार्टी के नेता संजय सिंह ने खुराना को दिलाई पार्टी की सदस्यता दिलाई। गौरतलब है कि मॉडल टाउन विधानसभा सीट से भाजपा ने कपिल मिश्रा को मैदान में उतारा है। ऐसे में राज खुराना का भाजपा से AAP में शामिल होना किसी झटके से कम नहीं है।

LIVE Delhi Election 2020 :

  • भाजपा नेता मनोज तिवारी ने आम आदमी पार्टी के घोषणा पत्र को लेकर कटाक्ष किया है। उन्होंने AAP सरकार को घेरते हुए कहा कि ये पुनर्वास कॉलोनियों के मालिकाना हक दिलाएंगे। पांच साल बीत गए और पता नहीं कौन सी कॉलौनी में बैठे हुए थे। ऐसी कई इन्होंने 2015 में भी कहीं थीं। 2020 का ये घोषणा पत्र बताता है कि ये कहते जरूर हैं पर इनको करना नहीं आता।
  • केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने फिर अरविंद केजरीवाल पर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि केजरीवाल जी कहते हैं मेरा दिलो-दिमाग सब शाहीन बाग के साथ है, पर दिल्ली की जनता भी कहती है कि हम शाहीन बाग के खिलाफ हैं और ये जो टुकड़े-टुकड़े गैंग के साथ, ये शाहीन बाग के साथ खड़े हैं, ये अपने आप दिखाते हैं कि ये कैसे राष्ट्र विरोधी ताकतों के साथ खड़े हैं।
  • दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 के लिए मंगलवार को आम आदमी पार्टी ने अपना घोषणा पत्र जारी कर दिया है। घोषणा पत्र जारी होने के दौरान अरविंद केजरीवाल समेत AAP के तमाम दिग्गज नेता मौजूद रहे। आम आदमी पार्टी ने घोषण पत्र में 28 मुद्दों पर फोकस रखने की बात कही है। 24 घंटे बाजार खोलने, जन लोकपाल और स्वराज कानून समेत राशन की डोर स्टेप डिलिवरी समेत 28 मुद्दे हैं, जिन पर AAP का जोर रहेगा।
  • अरविंद केजरीवाल के हनुमान चालीसा पढ़ने पर भाजपा नेताओं की प्रतिक्रिया आनी जारी है। उत्तर प्रदेश की गोरखपुर लोकसभा सीट से भाजपा सांसद रवि किशन प्रतिक्रिया में कहा- ‘ अरविंद केजरीवाल को अचानक शाहीन बाग में बिरयानी खिलाने के बाद अब उनको याद आ गया कि मैं हिन्दू हूं। हनुमान जी को अब ये बुड़बक नहीं बना सकते, हनुमान चालीसा पढ़ें या पेड़ पर उल्टा लटक जाएं ये चुनाव वो हार रहे हैं।’
  •  
  • दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 के लिए प्रचार में तेजी आने के साथ विवादित बयानों का सिलसिला जारी है। मॉडल टाउन विधानसभा क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी कपिल मिश्रा ने फिर विवादित ट्वीट किया है- ‘केजरीवाल हनुमान चालीसा पढ़ रहे हैं और अब ओवैसी भी पढ़ेंगे।
  • दिल्ली चुनाव के मद्देनजर मुख्य दिव्यांगों व बुजुर्गों मतदाताओं को परिवहन सुविधा देने का फैसला लिया है। यह सुविधा पाने के लिए मतदाता पांच फरवरी तक पंजीकरण करा सकते हैं।
  • कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी की 5 फरवरी को आयोजित रैली रद हो सकती है, क्योंकि वह इन दिनों बीमार चल रही हैं।
  • दिल्ली विधानसभा चुनाव के मद्देनजर मंगलवार को पीएम मोदी, केंद्रीय मंत्री अमित शाह, राहुल गांधी-प्रियंका गांधी और अरविंद केजरीवाल समेत दर्जनभर से अधिक दिग्गज  नेता रैली, जनसभा और रोड शो के जरिये उम्मीदवारों के लिए वोट मांगेंगे।
  • दिल्ली के द्वारका इलाके में पीएम मोदी रैली को संबोधित करेंगे।
  • कांग्रेस महासचिव और वरिष्ठ नेता (Congress General Secretary Priyanka Gandhi Vadra) और  कांग्रेस नेता राहुल गांधी (party leader Rahul Gandhi) जंगपुरा और संगम विहार में जनसभा को संबोधित करेंगे।
  • वरिष्ठ कांग्रेस नेता और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह (Former Prime Minister and senior Congress leader Dr. Manmohan Singh) राजौरी गार्डन में मंगलवार को जनसभा को संबोधित करेंगे।
  • केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Union Home Minister Amit Shah) दिल्ली कैंट इलाके के साथ पटेल नगर और तिमारपुर में रैली को संबोधित करेंगे।
  • सोमवार को आम आदमी पार्टी को बड़ा झटका लगा है, कालकाजी से AAP विधायक के बेटे ने कांग्रेस पार्टी ज्वाइन कर ली है।
  •  अमित शाह (भाजपा) ने ट्वीट किया है- ‘शाहीन बाग में नारे लगते हैं कि हमें चाहिए जिन्ना वाली आजादी। और ये निर्लज्ज होकर कहते हैं कि हम शाहीन बाग के साथ हैं। ‘असम को भारत से काट दो’ कहने वाले शरजील इमाम के साथ ये खड़े हैं। इन लोगों को जवाब वोट देकर देना होगा।’
  • कांग्रेस नेता अजय माकन ने कहा कि बिजली पर कांग्रेस राज्यों में दिल्ली से तीन गुना सब्सिडी है। दिल्ली सब्सिडी में भ्रष्टाचार है यहां सब्सिडी प्राइवेट कंपनियों को दी जाती है, कांग्रेस प्रदेशों में सरकारी कंपनियों को जाती हैं। हम डीबीटी के तहत सब्सिडी सीधे उपभोक्ताओं के खातों में जमा कर 300 यूनिट बिजली फ्री देंगे!
  • AAP नेता संजय सिंह ने ट्वीट किया है- ‘भाजपाई कह रहे हैं ‘ हिंदू कटने को तैयार हो जाओ’ भाजपा की सरकार है। इनसे हिंदुओं की सुरक्षा नहीं हो सकती तो सरकार में क्यों हो?
  • दिल्ली विधानसभा चुनाव के तहत सभी 70 सीटों के लिए आगामी 8 फरवरी को मतदान होना है और 11 फरवरी को मतों की गणना होनी है।
  • दिल्ली में भाजपा अपने सहयोगियों लोक जनशक्ति पार्टी और जनता दल युनाइटेड के साथ तो कांग्रेस बिहार में सहयोगी राष्ट्रीय जनता दल के साथ गठबंधन करके चुनाव मैदान में है।
  • दिल्ली विधासभा चुनाव के इतिहास में ऐसा पहली बार है,जब कांग्रेस किसी पार्टी के साथ गठबंधन करके चुनाव लड़ रही है।
Delhi Election 2020 LIVE: BJP प्रत्याशी कपिल मिश्रा को बड़ा झटका, AAP में शामिल हुए भाजपा के दिग्गज नेता Read More

मुझसे कहा गया पंजाब से दूर रहो, मैं अपनी जड़, अपना वतन कैसे छोड़ दूं : नवजोत सिंह सिद्धू

sidhu_ndtv_24x7_clean_486633_ahtasham_159883_highx_25071157384497_650x400_636050449698879652नई दिल्ली: बीजेपी में बगावत का झंडा बुलंद करने वाले नवजोत सिंह सिद्धू ने आज साफ किया कि क्यों उन्होंने राज्यसभा से इस्तीफा दिया। दिल्ली में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सिद्धू ने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि ‘मैंने इस्तीफा दिया क्योंकि मुझसे कहा गया था कि पंजाब की तरफ मुंह नहीं करोगे।’ सिद्धू ने आगे कहा ‘मुझसे कहा गया कि तुम पंजाब से दूर रहोगे। धर्मों में सबसे बड़ा धर्म राष्ट्रधर्म होता है। तो फिर कैसे मैं अपनी जड़, अपना वतन छोड़ दूं।’ उधर बीजेपी ने साफ किया है कि सिद्धू को पंजाब से दूर रहने के लिए कभी नहीं कहा गया। पार्टी की ओर से यह भी कहा गया है कि इस शर्त पर सिद्धू राज्यसभा नहीं जाते।

मोदी की लहर
सिद्धू ने बीजेपी का नाम नहीं लिया लेकिन यह ज़रूर कहा कि ‘मोदी की लहर ने सिर्फ विपक्ष को ही नहीं सिद्धू को भी डुबो दिया।’ राज्यसभा से इस्तीफा दे चुके सिद्धू ने कहा ‘चार इलेक्शन जीतने के बाद राज्यसभा देकर कहा जाता है कि सिद्धू पंजाब से दूर रहो। लेकिन पंछी भी शाम को अपने घौंसले में लौटता है। राष्ट्रभक्त पक्षी भी अपने पेड़ नहीं छोड़ते। दुनिया की कोई भी पार्टी पंजाब से ऊपर नहीं है और कोई भी नफा नुकसान हो उसे झेलने के लिए नवजोत सिंह सिद्धू तैयार है। अपने निजी स्वार्थों के लिए उन लोगों को नहीं छोड़ सकता जिन्होंने मुझे वोट दिया।’

आप में शामिल होने का सवाल
दूसरी तरफ आम आदमी पार्टी में शामिल होने वाले सवाल को सिद्धू टाल गए और उन्होंने कहा कि ‘जहां पंजाब का हित होगा, वहां जाऊंगा।’ दरअसल सिद्धू राज्यसभा से इस्तीफ़ा दे चुके हैं और उनके आम आदमी पार्टी में जाने की अटकलें हैं। हालांकि पंजाब बीजेपी की तरफ़ से बार-बार यह कहा जा रहा था कि अब तक उन्हें सिद्धू का इस्तीफ़ा नहीं मिला है जबकि सिद्धू की पत्नी नवजौत कौर ने साफ़ किया था कि राज्यसभा से इस्तीफे का मतलब बीजेपी से भी इस्तीफा है।

‘बोझ नहीं ढोना..’
इससे पहले इस्तीफे पर संक्षिप्त बयान में सिद्धू ने अपनी भावी योजना के बारे में ज्यादा खुलासा नहीं किया था, लेकिन संकेत हैं कि वह अपनी पार्टी में राज्य में चल रही चीजों से नाखुश थे। सिद्धू ने अपने बयान में कहा था ‘सम्मानीय प्रधानमंत्री के कहने पर मैंने पंजाब के कल्याण के लिए राज्यसभा का मनोयन स्वीकार कर लिया था। पंजाब के लिए हर खिड़की बंद होने के साथ उद्देश्य धराशायी हो गया। अब यह महज बोझ रह गया। मैंने इसे नहीं ढोना सही समझा।’ उन्होंने कहा, ‘सही और गलत की लड़ाई में आप आत्मकेंद्रित होने के बजाय तटस्थ नहीं रह सकते। पंजाब का हित सर्वोपरि है।’

नवजोत सिंह सिद्धू ने 2014 के लोकसभा चुनाव में अमृतसर लोकसभा सीट अरुण जेटली के लिए छोड़ी थी, तब से वह पार्टी से नाखुश थे। सिद्धू पार्टी से काफी दिनों से नाराज चल रहे थे, लेकिन मीडिया के सामने उन्होंने कभी भी खुलकर यह नहीं कहा था। अप्रैल 2016 में सिद्धू राज्यसभा के लिए मनोनीत किए गए और जून में सिद्धू को पंजाब भाजपा कार्यकारिणी का सदस्य बनाया गया है। हालांकि सिद्धू कार्यकारिणी की बैठक में नहीं गए। उनकी पत्नी नवजोत कौर ने कहा कि भाजपा, अकाली दल से नाता तोड़ें तब सिद्धू आएंगे। इसके बाद सिद्धू ने बीजेपी नेताओं से संपर्क जैसे तोड़ से लिए और उनके फोन रिसीव करने बंद किए। 18 जुलाई 2016 को सिद्धू ने राज्यसभा से इस्तीफा दे दिया।

Source :- NDTV

मुझसे कहा गया पंजाब से दूर रहो, मैं अपनी जड़, अपना वतन कैसे छोड़ दूं : नवजोत सिंह सिद्धू Read More

केजरीवाल को अगर अनुकूल लगे तो वह मोदी से भी हाथ मिला सकते हैं : प्रशांत भूषण

prashant-bhushan_650x400_71463073911वाशिंगटन: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर ‘पूरी तरह बेइमान’ होने का आरोप लगाते हुए उनके मित्र से विरोधी बने प्रशांत भूषण ने दावा किया है कि आम आदमी पार्टी के नेता व्यक्तिगत हित के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से भी हाथ मिला सकते हैं।

अमेरिका के निजी दौरे पर आए भूषण ने भारतीय-अमेरीकियों और भारतीयों के एक समूह को सोमवार रात संबोधित करते हुए कहा, ‘‘वह (केजरीवाल) पूरे बेइमान हैं, जिस दिन उन्हें रास आए, वह मोदी से हाथ मिला लेंगे। मुझे इसमें कोई संदेह नहीं है।’’ भूषण की यह टिप्पणी ऐसे समय में आई है जब केजरीवाल के नेतृत्व वाली दिल्ली सरकार और पीएम मोदी के नेतृत्व वाली केन्द्र सरकार के बीच पिछले एक साल से अधिक समय में कई मुद्दों पर टकराव देखने को मिला है।

मेरे और योगेन्द्र जैसे लोगों का इस्तेमाल विश्वसनीयता बढ़ाने के लिए किया
पिछले साल आम आदमी पार्टी (आप) से निकाले जाने के बाद योगेन्द्र यादव के साथ स्वराज अभियान की नींव रखने वाले भूषण ने कहा कि केजरीवाल की इस फितरत के बारे में उन्हें पहले पता नहीं चल पाया इसका उन्हें अफसोस है। उन्होंने कहा, ‘‘उन्होंने मेरे और योगेन्द्र जैसे लोगों का इस्तेमाल विश्वसनीयता बढ़ाने के लिए किया और इस दौरान उन्होंने यह भी सुनिश्चित किया कि आप के निर्णय लेने वाले निकायों में उनका बहुमत हो, ताकि वह अपने एजेंडे के साथ आगे बढ़ सकें।’’ एक सवाल के जवाब में भूषण ने आरोप लगाया कि केजरीवाल की दिलचस्पी भ्रष्टाचार से लड़ने में नहीं है।

अरविंद का हाल मनमोहन सिंह जैसा ही है
आप विधायकों को लेकर भ्रष्टाचार के कई मामलों के बारे में सुने जाने का आरोप लगाते हुए भूषण ने कहा, ‘‘वह खुद के लिए जवाबदेही नहीं चाहते हैं।’’ आप के पूर्व नेता ने आरोप लगाया, ‘‘अरविंद का हाल मनमोहन सिंह जैसा ही है जिन्होंने खुद कभी रुपया नहीं लिया लेकिन अपने इर्द-गिर्द के लोगों को रुपया लेने की अनुमति दी।’’ पंजाब विधानसभा चुनाव के बारे में बात करते हुए भूषण ने बताया कि राज्य में आम आदमी पार्टी की सरकार कांग्रेस की तुलना में कहीं ज्यादा बुरी होगी।

पंजाब में आप को एक विश्वसनीय विकल्प मानने से इनकार करते हुए उन्होंने कहा, ‘‘यह सिद्धांतविहीन और अराजक होगी।’’ उन्होंने कहा, ‘‘दरअसल पंजाब में कांग्रेस कहीं अच्छी पसंद साबित होगी। मेरे विचार में वह आप से बेहतर होगी। वे (कांग्रेस) अनुभवी हैं। आप में कोई सिद्धांत नहीं रह गया है।’’ उन्होंने कहा कि स्वराज अभियान राजनीति में कूदने के लिए तैयार नहीं है।

केजरीवाल ने मेरे जैसे लोगों का इस्तेमाल किया
एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, ‘‘इसमें एक साल का समय लगेगा।’’ उन्होंने बताया कि चुनावी राजनीति में शामिल होने से पहले स्वराज अभियान खुद के भीतर पारदर्शिता, जवाबदेही और लोकतंत्र के सिद्धांत स्थापित करना चाहती है। उन्होंने कहा, ‘‘आप के मामले में हमने जो गलतियां की हैं हम उन्हें दोहराना नहीं चाहते हैं।’’ उन्होंने कहा कि केजरीवाल ने मेरे जैसे लोगों का इस्तेमाल किया।

(इस खबर को दी सन्डे हेड लाइन्स  टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है)

केजरीवाल को अगर अनुकूल लगे तो वह मोदी से भी हाथ मिला सकते हैं : प्रशांत भूषण Read More