Delhi CM Arvind Kejriwal claims Amit Shah to be PM in 2025 if NDA wins; Modi will finish term, says Union minister

So I asked the BJP, who is your PM candidate? If they form govt, they will first tackle (UP CM) Yogiji. Then Modiji’s favorite, Amit Shah will be the PM. So, I want to alert the people of the country, that Modiji is not asking for a vote for himself, He is seeking votes to make Amit Shah PM. I want to ask Modiji and Amit Shahji, Who will fulfill Modiji’s guarantee? will Amit Shah do it?

Delhi Chief Minister Arvind Kejriwal’s recent assertions have injected new vigor into the political discourse surrounding the upcoming elections. By speculating on Amit Shah’s potential ascension to the Prime Minister’s office in 2025, Kejriwal has ignited debates about the BJP’s leadership dynamics and electoral strategy. His claims suggest a strategic move by the BJP, with Modi seemingly positioning Shah as his successor, prompting questions about the party’s long-term vision and succession planning.

Delhi Chief Minister Arvind Kejriwal predicts that if the NDA wins the 2024 elections, Amit Shah will become the Prime Minister in 2025.

Moreover, Kejriwal’s promise of full statehood for Delhi as part of an envisaged INDIA bloc government underscores his commitment to bolstering regional autonomy and challenging central authority. By positioning AAP as a key player in national politics, Kejriwal seeks to capitalize on voter dissatisfaction with traditional political structures and offer an alternative narrative of empowerment and decentralization.

  1. Delhi Chief Minister Arvind Kejriwal predicts that if the NDA wins the 2024 elections, Amit Shah will become the Prime Minister in 2025. Kejriwal alleges that Modi seeks votes not for himself but to make Shah the PM, raising questions about the BJP’s leadership strategy.
  2. Kejriwal asserts that an INDIA bloc government will be formed after the elections, with AAP’s participation, promising full statehood for Delhi and autonomy from central control. He pledges to work tirelessly to end what he perceives as a dictatorship and ensure Delhi’s empowerment.
  3. Kejriwal accuses the BJP of aiming for 400 seats to alter the Constitution and abolish reservations, vowing to defend democracy vigorously. He contrasts AAP’s focus on development in Delhi with the BJP’s alleged lack of significant accomplishments during its tenure.

At the heart of Kejriwal’s narrative lies a critique of the BJP’s governance model, characterized by what he perceives as a lack of tangible achievements and a focus on divisive rhetoric over substantive issues. By contrasting AAP’s track record of development in Delhi with the BJP’s alleged shortcomings, Kejriwal aims to appeal to voters’ desire for effective governance and inclusive policies.

During these political maneuvers, Kejriwal’s ongoing legal battles, notably his interim bail in a money laundering case, add a layer of complexity to the political landscape. While providing him with temporary respite, these legal challenges also highlight the precarious nature of his political standing and the potential implications for his future aspirations.

In sum, Kejriwal’s recent statements reflect a broader strategy aimed at reshaping the political narrative, challenging traditional power structures, and positioning AAP as a credible alternative on the national stage. As the electoral contest intensifies, his assertions are likely to fuel further debates and shape the discourse leading up to the polls.

Delhi CM Arvind Kejriwal claims Amit Shah to be PM in 2025 if NDA wins; Modi will finish term, says Union minister Read More

Gautam Gambhir Requests BJP Chief JP Nadda to Relieve Him of Political Duties

Former cricketer and Delhi MP Gautam Gambhir has made a formal request to BJP president JP Nadda to release him from his political responsibilities on Saturday. Gambhir’s decision stems from his desire to allocate more time to his forthcoming cricket commitments. Expressing gratitude, Gambhir conveyed sincere appreciation to Prime Minister Narendra Modi and Home Minister Amit Shah for the opportunity to serve the nation.

In a statement, Gambhir stated, ”I have requested Hon’ble Party President @JPNadda ji to relieve me of my political duties so that I can focus on my upcoming cricket commitments. I sincerely thank Hon’ble PM @narendramodi ji and Hon’ble HM @AmitShah ji for giving me the opportunity to serve the people. Jai Hind!”

With this move, Gambhir aims to effectively manage his dual roles and responsibilities.

Having joined the BJP in March 2019, Gambhir swiftly emerged as a significant figure within the party in Delhi. He clinched victory in the East Delhi seat during the 2019 Lok Sabha elections with a remarkable margin of 6,95,109 votes.

Gautam Gambhir Requests BJP Chief JP Nadda to Relieve Him of Political Duties Read More

Indian Navy and NCB Seize 3,300 kg of Drugs off Gujarat Coast; Amit Shah Hails Historic Operation

In a collaborative effort between the Indian Navy and the Narcotics Control Bureau (NCB), a suspicious boat carrying approximately 3,300 kg of contraband was intercepted. This marks one of the most significant seizures in recent history in terms of drug quantity. The apprehension took place near the International Maritime Boundary Line off the Gujarat coast in the Arabian Sea..

NEW DELHI: The Indian Navy, in conjunction with the Narcotics Control Bureau, conducted a successful operation seizing a boat laden with nearly 3,300 kg of drugs, marking the largest seizure in recent times.

The confiscated drugs comprise 3,089 kilograms of charas, 158 kg of Methamphetamine, and 25 kg of morphine, as per a statement issued by the Indian Navy.

“Indian Navy, in a coordinated operation with the Narcotics Control Bureau, intercepted a suspicious dhow carrying almost 3300Kgs contraband (3089 Kgs Charas, 158 Kgs Methamphetamine 25 Kgs Morphine). This constitutes the largest seizure of narcotics, in terms of quantity, in recent times,” stated the Navy.

The suspicious vessel was intercepted near the International Maritime Boundary Line off the Gujarat coast in the Arabian Sea. Subsequently, the contraband, along with the apprehended boat and crew, were handed over to law enforcement agencies at an Indian port on February 27.

The interception was made possible through information provided by the P8I LRMR aircraft during a surveillance mission. A mission-deployed ship of the Indian Navy was redirected to intercept the suspicious dhow involved in contraband smuggling.

“The coordinated response of the #IndianNavy with Law Enforcement Agencies is reflective of our resolute stance against narcotics trafficking in #India’s maritime neighborhood,” stated the Indian Navy on social media platform X.

Union Home Minister Amit Shah lauded the Navy and NCB for their achievement, terming the joint operation a “historic success.”

“In a joint operation carried out by the NCB, the Navy, and the Gujarat Police, a gigantic consignment of 3132 kg of drugs was seized. The historic success is a testament to our govt’s unwavering commitment to making our nation drug-free. On this occasion, I congratulate the NCB, the Navy, and the Gujarat Police,” said Amit Shah.

Indian Navy and NCB Seize 3,300 kg of Drugs off Gujarat Coast; Amit Shah Hails Historic Operation Read More
Mamta banerji and bjp

ममता को घेरने के लिए BJP का सबसे बड़ा मिशन, बंगाल में शाह समेत टॉप नेताओं की उतार रही फौज

Mamata vs BJP: पश्चिम बंगाल में अपने पैरा जमाने में जुटी बीजेपी ने विधानसभा चुनावों से पहले अपनी पूरी ताकत झोंकने की तैयारी कर ली है। ममता के गढ़ में शाह तो उतरेंगे ही

हाइलाइट्स:

  • शाह के अलावा केंद्रीय मंत्रियों, एक उपमुख्यमंत्री और कई केंद्रीय नेताओं की बंगाल में तैनाती
  • गजेंद्र सिंह शेखावत, संजीव बालियान, प्रह्लाद पटेल, अर्जुन मुंडा और मनसुख भाई मांडविया बंगाल जाएंगे
  • 19 दिसंबर को शाह सभी नेताओं के साथ एक बैठक करेंगे और आगे की रणनीति पर चर्चा करेंगे

अगले साल होने वाले पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के मद्देनजर बीजेपी ने अपने अभियान में युद्ध स्तर पर तेजी लाते हुए केंद्रीय मंत्रियों, एक उपमुख्यमंत्री और कई केंद्रीय नेताओं को विभिन्न मोर्चों पर तैनात किया है और उन्हें छह से सात संसदीय क्षेत्रों की जिम्मेदारी सौंपी है।

शाह के साथ ममता के गढ़ में उतरेंगे BJP के ये महारथी
पार्टी सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह इस हफ्ते आखिर में राज्य का दौरा करेंगे वहीं केंद्रीय मंत्रिपरिषद के उनके सहयोगी गजेंद्र सिंह शेखावत, संजीव बालियान, प्रह्लाद पटेल, अर्जुन मुंडा और मनसुख भाई मांडविया अगले कुछ दिनों के भीतर प्रदेश का दौरा करेंगे।

 

सूत्रों के मुताबिक उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या और मध्य प्रदेश सरकार में वरिष्ठ मंत्री नरोत्तम मिश्रा को भी पश्चिम बंगाल में जिम्मेदारी सौंपी गई है। केंद्रीय मंत्री पटेल से जब उन्हें पश्चिम बंगाल में मिली जिम्मेदारी के बारे में पूछा गया तो उन्होंने इस बात की पुष्टि की और बताया कि उन्हें उत्तर बंगाल में पार्टी की चुनावी तैयारियों का जिम्मा सौंपा गया है।

ममता को घेरने के लिए BJP का सबसे बड़ा मिशन, बंगाल में शाह समेत टॉप नेताओं की उतार रही फौज Read More
Letter to Amit Shah

गृह मंत्री अमित शाह को एक संन्यासी ने पत्र में क्या लिखा ?

दिल्ली विधान सभा चुनाव 2020 में BJP के हार के बाद भारत के गृह मंत्री श्री अमित शाह ने न्यूज़ चैनल के माध्यम से हार की जिम्मेदारी लेते हुए कहा की  “BJP के कई मंत्रियों के  विवादित  बयानबाजी के कारण हार हुई है “गाज़ियाबाद स्थित शिवशक्ति धाम डासना मंदिर के संत श्री यति नरसिम्हा नन्द सरस्वती ने इसको गलत बताते हुए  एक पत्र अमित शाह जी को क्या लिखा ?
What did a monk write in the letter to Home Minister Amit Shah

15 फरवरी 2020

शिवशक्ति धाम डासना 
 
सेवा में
श्रीमान अमित शाह जी

गृहमंत्री भारत सरकार

विषय:एक सन्यासी का राष्ट्र के गृहमंत्री को संदेश
महोदय,
मुझे नही पता की मेरा यह पत्र आपको मिलेगा या नहीं मिलेगा। आप इस पत्र को पढ़ पाएंगे या नहीं पढ़ पायेंगे। मेरे जैसे लाखो साधु इस देश में हैं और आप इस महान राष्ट्र के यशस्वी महानायक हैं जिसके मजबूत कंधों पर सम्पूर्ण सनातन धर्म और भारत राष्ट्र की रक्षा का भार है।इस कारण से मुझे लगता है की ये लगभग
असम्भव बात है की मेरा यह पत्र आप तक पहुँचे, फिर भी मैं सनातन धर्म का सन्यासी होने के कर्तव्य को पूरा करने के लिये आपको यह पत्र लिख रहा हूँ।
13 फरवरी 2020 को मैं दिल्ली विधानसभा के भाजपा की हार को लेकर आपके बयान को सुन रहा था। आपके बयान को सुनकर मेरा दिल बैठ गया क्योंकि आपका बयान बहुत ही निराशाजनक और सच्चाई से परे था।मुझे नहीं लगता की ये आपका बयान हो सकता है।शायद आपके कुछ कायर, कमजोर और सत्तालोलुप साथियों ने आपको भ्रमित करके आपसे यह बयान दिलवाया है।मेरा ऐसा मानने के कुछ ठोस कारण हैं।मेरा जन्म एक काँग्रेस समर्थक परिवार में हुआ था परन्तु मेरे जीवन मे घटित कुछ बहुत ही घृणास्पद घटनाओ ने मुझे एक जागरूक हिन्दू बनाया और मैं हिन्दू संगठनों की ओर मुड़ा और बहुत निराश हुआ।मैं लगभग 20 साल तक संघ परिवार के विभिन्न संगठनों से जुड़ा रहा।संघ परिवार को बहुत नजदीक से देखने के बाद मेरी ये धारणा बनी की संघ परिवार मेरे गुरु जी परम आदरणीय स्वर्गीय बैकुंठ लाल शर्मा”प्रेम सिंह शेर” जी(पूर्व सांसद),परम आदरणीय स्वर्गीय श्री बी पी सिंघल(पूर्व राज्यसभा सांसद) तथा अन्य कुछ अति महत्वपूर्ण अपवादों को छोड़कर
सत्तालोलुप लोगो की एक ऐसी जमात है जो केवल हिंदुत्व के नाम पर हिन्दुओ का शोषण करना जानती है और करती हिन्दुओ के लिये कुछ भी नहीं है।स्वर्गीय प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जी के कार्यकाल और वर्तमान प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी का प्रथम पांच वर्षो के कार्यकाल ने मेरी इस धारणा को हर तरह से मजबूत किया।अपनी इस धारणा के बाद भी मैंने अपने जीवन मे एक बार के अलावा कभी भी भा ज पा को छोड़कर किसी और को वोट नहीं दिया।एक बार मेरी बहुत मजबूरी थी।मेरे मुस्लिम बाहुल्य कस्बे में नगर पंचायत अध्यक्ष पद के लिये केवल एक हिन्दू खड़ा था,तो मुझे उसे वोट देना पड़ा।वस्तुतः मैं सनातन धर्म के भविष्य को लेकर बिल्कुल निश्चिंत हो चुका था की अब तो हमे मिटना ही है।मुझे आशा की कोई किरण दिखाई नहीं दे रही थी।
लेकिन श्री नरेन्द्र मोदी जी के दूसरे कार्यकाल में आपके गृहमंत्री बनने के मुझे लगा की कुछ लोग हैं जो सनातन धर्म को बचा लेंगे।मैं आपका बहुत बड़ा प्रशंसक बन गया और आपके कारण मुझे नरेंद्र मोदी जी में भी विश्वास जागृत हुआ।
आज मैं आपसे बस इतना कहना चाहता हूं की योद्धाओ के जीवन मे हार जीत आती रहती हैं।जो इतिहास रचने वाले योद्धा होते हैं, वो किसी हार से विचलित नहीं होते बल्कि हार जाने के बाद आत्ममंथन करके अपनी गलतियों को सुधार कर महान लक्ष्य और विजय की ओर बढ़ते हैं।आप और मोदी जी हमारे वर्तमान के सबसे बड़े योद्धा हैं।क्षण प्रतिक्षण इतिहास आपके प्रत्येक कार्य कलाप पर दृष्टि जमाये हुए है।मेरा आपसे विनम्र अनुरोध है की किसी भी परिस्थिति में धर्म और धैर्य का परित्याग न करें।
कुछ छोटी छोटी बातो की ओर आपका ध्यान दिलाना चाहता हूँ।आप
दिल्ली विधानसभा में इसलिये नहीं हारे हैं की लोगो ने उग्र हिंदुत्व को नकार दिया है।ये तो आपको वो लोग बता रहे हैं जो या तो इस देश की जड़ो से कटे हुए लोग हैं या आपके शत्रु हैं।दिल्ली विधानसभा सहित कई दूसरे राज्यो में आपको हिन्दुओ ने पिछली बार से कम वोट नहीं दिए हैं।इसका अर्थ है की आपका वोट बैंक लगातार बढ़ रहा है।यदि आप शाहीन बाग में इस्लाम के जिहादियो और राष्ट्र के शत्रुओं के प्रति ढुलमुल नीति को छोड़कर कठोर नीति अपनाये होते तो आज स्थिति बिल्कुल भिन्न होती और दिल्ली विधानसभा के भा ज पा की सरकार बनी होती।
भा ज पा की हार में एक विशेष कारण आपकी पार्टी के नेताओ विशेषरूप से जनप्रतिनिधियो का अहंकार और कार्यकर्ताओं से उनकी दूरी भी है।अगर आप वास्तव में इस राष्ट्र के लिये कुछ ठोस करना चाहते हैं तो आपको इस ओर बहुत ध्यान देना पड़ेगा।
आपकी पार्टी की दिल्ली में दुर्गति का एक सबसे बड़ा कारण राजधानी में बढ़ता हुआ हिन्दू उत्पीड़न और उस पर आपकी पार्टी के नेताओं और संघ परिवार का शर्मनाक मौन है।आपकी पार्टी कभी भी अपने मतदाताओ और समर्थकों के सम्मान और स्वाभिमान की रक्षा के लिये कभी कुछ भी नही करती जबकी आपकी विरोधी पार्टिया
अपने मतदाताओ और समर्थको के लिये हर परिस्थितियों में साथ खड़ी रहती हैं।मैं आज तक ये कभी नही समझ पाया की जब अन्य पार्टिया इस्लाम के जिहादियो,आतंकवादियों, देशद्रोहियो तक के साथ गर्व से खड़ी हो सकती हैं तो आप और आपके नेता देशभक्तो,राष्ट्रवादियो और कट्टर हिन्दुओ के साथ क्यो नही खड़ी हो सकती।आपकी इस कमी से भी आपके समर्थको का एक बड़ा वर्ग अब उदासीन होता जा रहा है जिसका लाभ हमारे शत्रुओ को हो रहा है।आपसे निवेदन है की इस ओर ध्यान देने की कृपा करें क्योंकि राष्ट्र रक्षा और पुनर्निर्माण जैसे बड़े और महान लक्ष्य स्थायी साथियो के बिना कभी भी प्राप्त नहीं किये जा सकते।आपसे अनुरोध है की विस्तार जरूर करिये परन्तु अपनी जड़ों अर्थात अपने आधारभूत समर्थको और साथियो से जुड़े रहिये।आपको यह समझना ही पड़ेगा की केवल और केवल हिन्दू ही आपका आधार है और हिन्दुओ के विरोधी कभी भी किसी भी कीमत पर आपका साथ नहीं देंगे।
अंत मे बस एक बात और,अपनी पार्टी की असफलता और हार के लिये कभी भी हिंदूवादी नेताओ और उनके बयानों को मत जिम्मेदार ठहराइये क्योंकि यही लोग जनता में आपकी पार्टी की विश्वसनीयता के रक्षक हैं वरना तो इस समय समस्त हिन्दू समाज का मनोबल रसातल पर है।
देवाधिदेव भगवान महादेव शिव और जगद्जननी माँ जगदम्बा से प्रार्थना करता हूँ की वो मोदी जी पर और आप पर सदैव अपनी कृपा बनाये रखें और आप दोनों का यश युग युगान्तर तक गाया जाता रहे परन्तु इसके लिये आप दोनों को सभी तरह के संशय का त्याग करके सभी सनातन धर्म और भारत राष्ट्र के शत्रुओ से निर्णायक युद्ध करना ही पड़ेगा।
कुछ और बाते हैं पर वो फिर कभी।
                        आपका शुभचिंतक
यति नरसिंहानन्द सरस्वती
शिवशक्ति धाम,डासना जिला गाज़ियाबाद
Source : click on link

गृह मंत्री अमित शाह को एक संन्यासी ने पत्र में क्या लिखा ? Read More

दलित आंदोलन के नेता जिग्नेश मेवाणी हिरासत में लिए गए

gujrat-detained-leader-dalit-movement-jignesh-mewani-news-in-hindi-156340 अहमदाबाद. अहमदाबाद पुलिस ने गुजरात के दलित नेता जिग्नेश मेवाणी को हिरासत में ले लिया है. पुलिस ने उन्हें अहमदाबाद एयरपोर्ट पर हिरासत में लिया. वो दिल्ली से अहमदाबाद वापस लौट रहे थे. दलित नेता के भाई विरल मेवाणी ने कहा है कि क़रीब 25-30 पुलिसकर्मी सादा लिबास में एयरपोर्ट पर मौजूद थे और जिग्नेश जैसे ही एयरपोर्ट से बाहर आए उन्हें हिरासत में ले लिया गया.

विरल मेवाणी जिग्नेश को लेने एयरपोर्ट गए थे. अहमदाबाद से स्थानीय पत्रकार अंकुर जैन ने बताया है कि लिस का कहना है कि जिग्नेश को एहतियातन हिरासत में लिया गया है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्

रवार को अहमदाबाद पहुंचे हैं और शनिवार को वहां उनके जन्मदिन के अवसर पर कई कार्यक्रम आयोजित किए गए हैं. पुलिस शायद उस स्थिति से बचना चाह रही थी जो भारतीय जनता पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के सूरत कार्यक्रम के दौरान उत्पन्न हुई थी. सूरत में कार्यक्रम के दौरान हंगामा हो गया था.

 

 

source: Aaj Tak

दलित आंदोलन के नेता जिग्नेश मेवाणी हिरासत में लिए गए Read More

मिशन यूपी के लिए बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कुछ यूं हाईटेक कर दिया कार्यकर्ताओं को

amit-shah_650x400_51463717652नई दिल्‍ली: पूरे उत्तर प्रदेश में बीजेपी के विभिन्न दफ्तरों में काफी गहमागहमी है और इसका पूरा श्रेय पार्टी अध्यक्ष अमित शाह को जाता है। देश के सबसे बड़ी आबादी वाले राज्य में लंबे समय से सत्ता से दूर रही बीजेपी के पार्टी दफ्तरों में अब एक नई कार्य संस्कृति देखी जा रही है। फरवरी में अमित शाह ने राज्य में पार्टी के नए मुख्यालय की आधारशिला रखी थी। शाह उस वक्त पान की पीक से रंगी दीवारों और हो-हल्ले वाले माहौल को देखकर काफी खफा हुए थे।

कार्यकर्ताओं को मिलेंगे रेडियो फ्रिक्‍वेंसी वाले अटेंडेंस कार्ड
लेकिन यह अब बीते दिनों की बात हो गई। बीजेपी अब लखनऊ में पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं को रेडियो फ्रि‍क्वेंसी वाले अटेंडेंस कार्ड देने की योजना बना रही है, जिसे उपस्थिति दर्ज कराने के लिए स्वाइप करना होगा। इसके जरिये पार्टी के वरिष्ठ नेता यह जान सकेंगे कि कोई नेता दफ्तर में कितनी जल्दी आता है और कितना समय व्यतीत करता है। उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव के नतीजों को 2019 के आम चुनावों के पूर्व संकेत के रूप में निश्चित रूप से देखा जाएगा।

बीजेपी के एक वरिष्ठ नेता जो कल्याण सिंह के मुख्यमंत्री बनने के दौरान पार्टी के उत्थान और साल 2001 में राजनाथ सिंह के शासनकाल के दौरान पार्टी के पतन के गवाह रहे हैं, उन्होंने एनडीटीवी से कहा, हम करीब 15 साल से सत्ता से दूर हैं। लगभग सभी नेता पार्टी दफ्तर तभी आते हैं, जब इसके लिए उन पर दबाव डाला जाता है। उनके लिए लंच के लिए वापस घर जाना और दोपहर में आराम करना भी जरूरी होता है। अब हमें बदलाव करने के लिए कहा जा रहा है।

नए इलेक्ट्रॉनिक कार्ड में यूनिक नंबर हैं, जिससे पार्टी कार्यकर्ताओं को विभिन्न दस्तावेजों, पार्टी की नीतियों, केंद्र सरकार की विभिन्न योजनाओं की जानकारियों और ऑनलाइन लाइब्रेरी के इस्तेमाल में काफी सहूलियत मिलेगी।

जमा करनी होगी बैठकों की ऑनलाइन रिपोर्ट
वरिष्ठ नेताओं को विभिन्न बैठकों और चर्चाओं के बारे में ऑनलाइन रिपोर्ट भी जमा करनी होगी। इन रिपोर्टों की केंद्रीय नेताओं और जमीनी स्तर के कार्यकर्ताओं द्वारा समीक्षा की जाएगी। यह ऑनलाइन सुविधा जुलाई से चालू हो जाएगी और पहले फेज में मंडल स्तर के 1800 पदधारी इससे जुड़ेंगे। बाद में करीब 1.5 लाख कार्यकर्ताओं को राज्य मुख्यालय से ऑनलाइन जोड़ा जाएगा, जो मतदान के दौरान बूथ लेवल पर काम करेंगे।

बीजेपी अध्यक्ष की नई योजनाएं उनके खुद के शुरुआती और कड़वे अनुभवों के आधार पर तैयार किए गए हैं। 2013 में अमित शाह उस वक्त पीएम पद के घोषित उम्मीदवार नरेंद्र मोदी के लिए यूपी में चुनावी आधार तैयार करने के वास्ते गए थे। बीजेपी के एक नेता ने एनडीटीवी को बताया, ‘उन्होंने (अमित शाह ने) पाया कि स्थानीय नेता तभी दफ्तर में झांकते थे, जब किसी केंद्रीय नेता का दौरा होता था। उन्हें नेताओं के पैर छूने की आदत भी नागवार गुजरी, जिनका यूपी के वोटरों से वास्तव में कोई संपर्क नहीं था। अब जो नई पहल की जा रही है, उससे लगता है कि उन्हें यहां के शुरुआती दिन याद हैं।’

2014 के लोकसभा चुनावें में बीजेपी का यूपी में रहा था शानदार प्रदर्शन
2014 के आम चुनावों में बीजेपी ने यूपी की 80 लोकसभा सीटों में से 70 पर कब्जा जमाया था और पार्टी की इस शानदार कामयाबी से सिद्ध हुआ कि अमित शाह ने यहां वोटरों के नब्ज पकड़ने में कोई चूक नहीं की थी। जब उन्हें यूपी का जिम्मा सौंपा गया था, तब ऐसी स्थिति थी जैसे बूथ स्तर के पार्टी कार्यकर्ताओं को घुन लगा हो। इनमें अधिकतर वैसे कार्यकर्ता थे, जो नेताओं के सगे-संबंधी थे और जिन्होंने कभी भी जमीनी स्तर पर काम नहीं किया था। यही नहीं कार्यकर्ताओं की सूची में कुछ ऐसे भी नाम थे, जो मर चुके थे। ऐसी स्थिति में आनन-फानन में कार्यकर्ताओं की पूरी फौज खड़ी की गई। अब एक लाख से ज्यादा कार्यकर्ताओं को जोड़ा गया है और उनके रिकॉर्ड, प्रमाण पत्र तथा उनकी क्षमताओं का विश्लेषण कर यह जानने की कोशिश की जा रही है कि वोटरों से उनके कितने मजबूत संबंध हैं।

 

Source : NDTV

मिशन यूपी के लिए बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कुछ यूं हाईटेक कर दिया कार्यकर्ताओं को Read More

AAP ने PM मोदी की डिग्री को बताया फर्जी, कहा- भगवान नहीं हैं अमित शाह

ashutosh_146278432078_650x425_050916023056आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता आशुतोष ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की डिग्री के विवाद को आगे बढ़ाते हुए एक बार फिर आरोप लगाए हैं. उन्होंने डिग्री को फर्जी बताते हुए कहा कि प्रधानमंत्री को बचाने के लिए अमित शाह और अरुण जेटली ने कुछ हेरफेर किया है.

प्रेस कॉन्फ्रेंस में आशुतोष ने कही ये बातें-
– पीएम मोदी की डिग्री फर्जी है
– अमित शाह ने पीएम की फर्जी डिग्री दिखाई
– अमित शाह कोई भगवान नहीं, उनका इतिहास सबको मालूम
– BA और MA की डिग्री में अलग-अलग नाम. बीए में नरेंद्र कुमार दामोदरदास मोदी, एमए में नरेंद्रदास दामोदरदास मोदी
– 1977 में बीए पास तो 1978 की डिग्री कैसे?
– नाम बदलने की कानूनी पक्रिया होती है, नाम बदलने में हलफनामा देना होता है

AAP ने PM मोदी की डिग्री को बताया फर्जी, कहा- भगवान नहीं हैं अमित शाह Read More

गुजरात में अगड़ी जातियों को आर्थिक आधार पर 10 प्रतिशत आरक्षण, 1 मई को जारी होगा नोटिफिकेशन

anandiben-patelअहमदाबाद: गुजरात सरकार में मंत्री विजय रुपाणी ने कहा है कि राज्य में अब अगड़ी जातियों के लोगों को भी आरक्षण का लाभ दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि सरकार आर्थिक आधार पर पिछड़े लोगों को आरक्षण का लाभ देगी।

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह की अध्यक्षता में हुई बैठक में यह फैसला लिया गया
कहा जा रहा है कि बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह की अध्यक्षता में हुई एक बैठक में यह फैसला लिया गया। राज्य सरकार ने कहा कि अगर जरूरत पड़ी तो इस मामले में सरकार कानूनी लड़ाई लड़ने को तैयार है। गुजरात की मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल की मौजूदगी में राज्य के मंत्री विजय रुपाणी ने यह घोषणा की है।

रुपाणी ने कहा कि 1 मई से राज्य में इस 10 प्रतिशत आरक्षणके लिए नोटिफिकेशन जारी कर दिया जाएगा। इस व्यवस्था से सभी सवर्ण जातियों को आरक्षण का लाभ मिलेगा।

सरकार ने यह भी साफ किया है कि इस दायरे में सालाना 6 लाख से कम आय वाले परिवार के बच्चों को आरक्षण का लाभ दिया जाएगा।  सरकार ने यह भी साफ कर दिया कि इस नई व्यवस्था के लिए ओबीसी और एससी-एसटी के आरक्षण में कोई कटौती नहीं की गई है। यह व्सवस्था अलग से की गई है।

पाटीदार आंदोलन के चलते यह फैसला लिया गया
बताया जा रहा है कि राज्य में चल रहे पाटीदार आंदोलन के चलते यह फैसला लिया गया है। बता दें कि राज्य के पाटीदार समाज के युवा नेता हार्दिक पटेल ने राज्य में पटेल समुदाय के लिए आरक्षण की मांग की है। अब इस आरक्षण से इस समाज के लोगों को भी आरक्षण का लाभ मिलेगा।

गौरतलब है कि राज्य में फिलहाल 49.5 प्रतिशत आरक्षण लागू है और अब यह बढ़कर 59.5 प्रतिशत हो जाएगा।  लोग सवाल उठा रहे हैं कि अब राज्य में सुप्रीम कोर्ट के आदेश के उलट 50 प्रतिशत से ज्यादा आरक्षण हो जाएगा। वहीं, कुछ लोगों का कहना है कि यदि सुप्रीम कोर्ट इस खारिज भी कर देता है तो सरकार के पास यह कहने के लिए तर्क होगा कि उन्होंने प्रयास किया था।

 

Source: NDTV INDIA

गुजरात में अगड़ी जातियों को आर्थिक आधार पर 10 प्रतिशत आरक्षण, 1 मई को जारी होगा नोटिफिकेशन Read More

Rahul Gandhi should apologies to the nation for his support to forces inimical to India’s interests.

rahul-gandhi-jnu-campusDisappointed and frustrated over the success of the Narendra Modi government at the centre, the Congress party has now entered a phase of deep depression. The despondency in the grand old party is so acute that the Congress party has failed to discharge its role of a responsible opposition in the country.

 

Given the rising frustration levels, Congress Vice President Rahul Gandhi is unable to draw the distinction between pro-national and anti national activities. The unfortunate incident at Jawaharlal National University (JNU) cannot be condoned and considered pro nation by any stretch of imagination.  The anti-India sloganeering and open support for terrorists at India’s premier university cannot be accepted by any citizen of this country. To top it, the statements given by Rahul Gandhi and other Congress leaders in JNU amply demonstrates yet again that they have no regard and love for the nation and its interests.

 

Just to recap, the following slogans were raised by a bunch of left leaning students at the JNU Campus:

 

  • “Pakistan Zindabad“ (पाकिस्तान जिंदाबाद)
  • Go India Go Back (गो इंडिया गो बैक)
  • Bharat Ki Barbadi Tak Jang Rahegi Jari” (भारत की बरबादी तक जंग रहेगी जारी)
  • Kashmir Ki Azadi Tak Jang Rahegi Jari” (कश्मीर की आजादी तक जंग रहेगी जारी)
  • “Afzal Ham Sharminda Hae Tere Qatil Zinda Hae” (अफ़ज़ल हम शर्मिन्दा है तेरे कातिल ज़िंदा हैं)
  • “Tum Kitane Afzal Maroge, Har Ghar Se Afzal Nikalega” (तुम कितने अफजल मरोगे, हर घर से अफ़ज़ल निकलेगा)
  • Afzal Tere Khoon Se Inqalab Ayega” (अफ़ज़ल तेरे खून से इन्कलाब आयेगा)

 

It is indeed sad that Rahul Gandhi has been defending such students in the name of democracy. Is this Rahul Gandhi’s idea of nationalism and patriotism where a motley group of students aggressively talks about breaking the nation? By terming sedition as merely students’ revolution and the action taken by authorities against such anti national stance as a harsh step to curb freedom of expression, Rahul Gandhi has shown his lack of compassion and commitment towards India’s unity and integrity. I want to ask him if his support for such slogans means that he has joined hands with the separatists. Does he want to give a free hand to separatists in the name of freedom of expression and want another division of the country?

 

This incident at the JNU is nothing but a conspiracy to turn this premier institution of country into a hotbed for separatism and terrorism and bring it a bad name. I want to ask Rahul Gandhi that given the seditious activities at the JNU campus, should the central government have remained a mute spectator? Should such a stance by the central government been in the interest of the nation? Are you not encouraging anti national forces by supporting such shameful acts of anti-national activities?

 

During his visit to the JNU campus, Rahul Gandhi compared the current government at the centre with Hitler’s Germany. Before leveling such ridiculous charge, Rahul Gandhi perhaps forgot that the only period in post independent India when a comparison can be drawn with Hitler’s rule was during Mrs. Indira Gandhi’s imposition of emergency in 1975. The emergency not only crushed freedom of expression but the political opponents of Indira Gandhi were simply thrown into prison. It is rather ironical that left leaders, who are today finding support from Rahul Gandhi, were also victims of emergency’s assault on freedom and democratic rights. The traits of Hitler’s persona are in Congress party’s DNA and BJP does not need the Congress to lecture it on value of nationalism and democracy. Our political conduct and morals are inspired by India’s rich culture, heritage and centuries of values & ethos while India’s constitution is our guide for governance. I want to know from Rahul Gandhi if the 1975 emergency defines Congress party’s democratic values and doesn’t he find a parallel between Smt. Indira Gandhi and Hitler?

 

A number of Indian soldiers have been martyred over the years in their untiring effort and display of utmost courage to defend the country’s borders and keep a check on terrorists in Kashmir. During the 2001 terrorist attack on the country’s Parliament, six Delhi Police personnel, two personnel from Parliament’s security and one gardener were martyred. Is this Rahul Gandhi’s example of nationalism and patriotism where he defends those, who raise slogans in favour of Parliament attack mastermind Afzal Guru and support separatism in Kashmir? I want to ask Rahul Gandhi if this is how he has offered his tribute to the 10 soldiers including Lance Naik Hanumanthappa, who lost their lives while defending the nation at the icy heights of Siachen Glacier, by openly supporting to anti national activities at JNU?

 

After the BJP government came to power and with Prime Minister Narendra Modi’s efforts, we are finally achieving success in controlling the anti-India sentiment in the Kashmir valley. But instead of supporting the government in this crucial task, the Congress party is not only defending but encouraging such shameful activities at JNU. The support of anti-national sloganeering at JNU by those who subscribe to the leftist ideology cannot be accepted at any cost in the name of freedom of expression and progressive thought process.

 

On behalf of 1.25 billion Indian citizens, I seek responses to my questions from Congress President Smt. Sonia Gandhi and Congress Vice President Rahul Gandhi and demand that Rahul Gandhi should apologies to the nation for his support to forces inimical to India’s interests. 

 

Rahul Gandhi should apologies to the nation for his support to forces inimical to India’s interests. Read More