“Part Of INDIA,” Says Mamata Banerjee. “Don’t Trust,” Adhir Ranjan Responds

On Wednesday, Mamata Banerjee – who had seemed to put her membership of the INDIA bloc on hold – said she would provide “outside support” in the event the group won the 2024 Lok Sabha election.

Kolkata: The Congress’ Bengal chief, Adhir Ranjan Chowdhury, on Thursday, weighed in on the ‘is she, isn’t she’d debate over Mamata Banerjee‘s membership of the INDIA bloc, shortly before the Chief Minister said she remains a key part of the opposition grouping, which she called her “brainchild.”

Mamata Banerjee – who had seemed to put her membership of the INDIA bloc on hold
  1. Adhir Ranjan Chowdhury expresses distrust in Mamata Banerjee’s commitment to the INDIA bloc, citing her past departures and potential shift towards BJP.
  2. Mamata Banerjee reaffirms her support for the INDIA bloc, calling it her “brainchild” and offering “outside support” if the alliance wins the 2024 Lok Sabha election.
  3. The debate comes amid significant advances by the opposition bloc in the ongoing elections, with Chowdhury suggesting Banerjee’s change of stance follows a perceived weakening of the BJP.

 

Bengal Chief Minister Mamata Banerjee and the Congress’ Adhir Ranjan (File).

On Ms. Banerjee’s comment about providing “outside support” if the group wins the election, Mr. Chowdhury declared, “I don’t trust her… she left the alliance. She can also go towards the BJP.”

“What she will do from outside (the alliance) or inside… I don’t know. That you have to ask her,” the Congress leader told reporters, “But I don’t trust her. She left the alliance… she could even run to BJP.”

Mr. Chowdhury – who shares a contentious relationship with Ms. Banerjee, a fact underlined by her recent statement that “… INDIA alliance doesn’t count Bengal Congress…” – also said, “Whatever complaints she has (about the bloc) she should have raised earlier when it was created.”

Mr. Chowdhury further pointed out that her apparent U-turn came after polling for nearly 70 percent of all Lok Sabha seats, with the opposition bloc claiming significant advances in its bid to oust the ruling BJP.

“They (referring to the BJP) were talking about destroying Congress and that Congress would not get 40 seats… but now (what) she is saying means Congress and INDIA are coming to power,” he said, suggesting Ms. Banerjee’s change of stance followed a realization that the BJP might likely be defeated.

A day earlier, Ms. Banerjee – who had put her membership of the bloc on hold after public disagreements over seat-sharing deals – declared she would provide “outside support” in the event of an election win.

“Part Of INDIA,” Says Mamata Banerjee. “Don’t Trust,” Adhir Ranjan Responds Read More

Rahul Gandhi Claims India Faces Maximum Unemployment in 40 Years, Blames Modi for Small Business Demise

During the Bharat Jodo Nyay Yatra in Madhya Pradesh’s Gwalior, former Congress chief Rahul Gandhi made striking claims regarding India’s unemployment crisis. Gandhi emphasized that India’s unemployment rate is twice that of Pakistan, standing at 23 percent compared to Pakistan’s 12 percent. He further underscored that the number of unemployed youth in India surpasses those in neighboring countries like Bangladesh and Bhutan.

Gandhi attributed this alarming disparity to the policies of Prime Minister Narendra Modi, particularly the rollout of GST and demonetization, which he argued adversely impacted small businesses and consequently led to a surge in unemployment across the nation.

“The number of unemployed youth in our country exceeds those in Bangladesh and Bhutan,” Gandhi stated, expressing concern over India’s highest unemployment rate in the last four decades. He squarely placed the blame on PM Modi, accusing him of effectively “finishing” small businesses through demonetization and GST implementation, thereby exacerbating the unemployment crisis.

Gandhi’s remarks during the yatra highlighted the pressing economic challenges facing India, as well as the need for policy reforms to address unemployment and foster economic growth.

During his Bharat Jodo Nyay Yatra in Gwalior, Rahul Gandhi engaged with Agniveers and ex-servicemen, shedding light on economic disparity, social inequality, and the mistreatment of farmers and young people. Gandhi attributed the incorporation of ‘nyay’ into the yatra’s name to the pervasive injustice faced by these segments of society and the growing spread of “hatred” across the country.

Addressing a public gathering during the yatra, Gandhi reiterated his assertion regarding India’s alarming unemployment situation. He emphasized that India’s unemployment rate is double that of Pakistan, standing at 23 percent compared to Pakistan’s 12 percent. Gandhi further highlighted the concerning fact that the number of unemployed youth in India exceeds those in neighboring countries like Bangladesh and Bhutan.

Pointing fingers at Prime Minister Narendra Modi, Gandhi blamed him for the dire state of unemployment, citing policies like demonetization and GST implementation, which he claimed adversely affected small businesses and exacerbated the unemployment crisis.

Throughout his yatra, Gandhi’s interactions underscored the urgent need for addressing systemic injustices and fostering inclusive growth to tackle pressing socio-economic challenges facing the nation.

Rahul Gandhi Claims India Faces Maximum Unemployment in 40 Years, Blames Modi for Small Business Demise Read More

Congress Calls for Disqualification of 6 MLAs over Cross-Voting in 2024 Rajya Sabha Elections, Sources Say

The Congress-led government in Himachal Pradesh is in turmoil following allegations of its MLAs engaging in cross-voting in favor of a BJP candidate during the Rajya Sabha polls held on Tuesday.

In the aftermath of the 2024 Rajya Sabha Elections, sources indicate that the Congress party has initiated proceedings to seek the disqualification of six rebel MLAs who allegedly engaged in cross-voting.

This move comes on the heels of revelations that these Six MLAs crossed party lines, thereby aiding the BJP candidate, Harsh Mahajan, in securing a Rajya Sabha seat from the hill state.

Despite being in power in Himachal Pradesh with 40 MLAs and the support of three independent MLAs in the 68-member house, the Congress suffered a setback as its candidate, Abhishek Manu Singhvi, lost the Rajya Sabha seat.

Acknowledging his defeat, Singhvi expressed gratitude to the MLAs whose cross-voting contributed to Harsh Mahajan’s victory. The final outcome tilted in Mahajan’s favor after a tie-breaker draw of lots.

Singhvi remarked, “I would also like to thank the nine persons (MLAs) because they have taught me a lot about human nature, its fickleness or its resoluteness. They supped with us…So, I think we are bad judges of human character, they are obviously better judges of human character.”

The cross-voting incident has thrown the state government into disarray, with the opposition BJP asserting that the Congress administration has lost its majority in the house.

The Congress’s move to seek the disqualification of rebel MLAs is perceived as an attempt to safeguard its government in the state.

Amidst political upheaval, Himachal Pradesh Assembly Speaker Kuldeep Singh Pathania held discussions with Governor Shiv Pratap Shukla at Raj Bhavan on Wednesday.

This development unfolds against the backdrop of speculation that the BJP may introduce a motion of no-confidence in the assembly against the Congress government during the state’s Budget Session, which commences today.

In the 68-member Himachal Pradesh state assembly, the Congress holds 40 seats while the BJP holds 25. The remaining three seats are held by independents.

Congress Calls for Disqualification of 6 MLAs over Cross-Voting in 2024 Rajya Sabha Elections, Sources Say Read More
Congress and AAP Finalize Seat-Sharing Deal:

Congress and AAP Finalize Seat-Sharing Deal: AAP to Contest 4 Seats, Congress to Contend in 3 Including Chandni Chowk

Ahead of the Lok Sabha elections, a coalition has finally been formed between AAP and Congress. In a joint press conference held today in Delhi, details regarding seat-sharing were disclosed. Congress leader Mukul Wasnik informed that after extensive discussions, a final agreement on seat-sharing between AAP and Congress has been reached. According to Wasnik, AAP will contest on 4 seats in Delhi, while Congress will compete on 3 seats, including Chandni Chowk. Additionally, Congress will field its candidate in the Chandigarh Lok Sabha seat.

New Delhi: Congress and Aam Aadmi Party (AAP) have announced seat-sharing for the upcoming Lok Sabha elections, with AAP contesting on four seats and Congress on three seats in Delhi. A senior Congress leader shared this information. Furthermore, AAP will also contest in Gujarat’s Bharuch and Bhavnagar constituencies, as well as Haryana’s Kurukshetra Lok Sabha seat. Congress senior leader Mukul Wasnik, along with AAP leaders Sandeep Pathak, Sourav Bharadwaj, and Atishi, made the announcement during a joint press conference.

They stated that AAP will contest in South Delhi, West Delhi, East Delhi, and New Delhi parliamentary constituencies, while Congress will contest in Chandni Chowk, North West Delhi, and North East Delhi seats. The national capital has a total of seven Lok Sabha seats, all of which were won by the Bharatiya Janata Party (BJP) in the previous Lok Sabha elections. Wasnik mentioned that AAP will also contest in Gujarat’s Bharuch and Bhavnagar Lok Sabha seats, as well as in Haryana’s Kurukshetra seat. It was decided after lengthy discussions that Congress will field its candidate from the Chandigarh Lok Sabha seat.

There has been a deadlock between both parties regarding Bharuch as senior Congress leader Ahmed Patel’s son Faisal Patel and daughter Mumtaz Patel opposed AAP being given this seat. Faisal and his sister Mumtaz were being considered for the Congress ticket from this seat. AAP had already announced its MLA Chetan Vasava as its candidate from the Bharuch Lok Sabha seat. Congress and AAP have decided to contest separately in Punjab. The Lok Sabha elections are proposed for April-May.

Congress and AAP Finalize Seat-Sharing Deal: AAP to Contest 4 Seats, Congress to Contend in 3 Including Chandni Chowk Read More
Sonia Gandhi meet with president on delhi violence

दिल्ली हिंसा पर राष्ट्रपति से मिले सोनिया-प्रियंका-मनमोहन, गृह मंत्री को हटाने की मांग

  • जस्टिस मुरलीधर के तबादले पर कांग्रेस ने उठाए सवाल
  • हिंसा की चपेट में आने से अब तक 35 लोगों की मौत

दिल्ली हिंसा मामले में कांग्रेस का एक प्रतिनिधि मंडल आज राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मिलने पहुंच गया. इस प्रतिनिध मंडल में कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी, प्रियंका गांधी वाड्रा, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, आनंद शर्मा, रणदीप सुरेजवाला समेत कई नेता शामिल हैं. राष्ट्रपति कोविंद को कांग्रेस की ओर से मेमोरेंडम दिया गया.

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात के बाद सोनिया गांधी ने कहा कि गृह मंत्री और पुलिस हिंसा रोकने में नाकाम रही. दिल्ली और केंद्र सरकार ने हिंसा की अनदेखी की. हिंसा की वजह से अब तक 34 लोगों की मौत हुई, 200 से अधिक लोग घायल हैं. करोड़ों रुपये की संपत्ति का नुकसान हुआ. इस मेमोरेंडम में हिंसा के आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग के साथ ही पीड़ितों को मदद मुहैया कराने की मांग की गई है.

फिर अमित शाह के इस्तीफे की मांग

इसके साथ सोनिया गांधी ने कहा कि घटना को लेकर कार्रवाई करने की बजाय केंद्र सरकार और दिल्ली सरकार मूकदर्शक बनी रही. गृह मंत्री अमित शाह ने भी कोई कार्यवाही नहीं की, जिसकी वजह से 34 लोगों की जान चली गई. सोनिया गांधी ने एक बार फिर अमित शाह के इस्तीफे की मांग की और कहा कि वह स्थिति को संभालने में नाकाम साबित हुए हैं

जस्टिस के तबादले पर सवाल

इससे पहले कांग्रेस ने दिल्ली हाई कोर्ट के जस्टिस एस. मुरलीधर के अचानक तबादले पर सवाल उठाया. प्रियंका गांधी ने आरोप लगाते हुए कहा कि आधी रात में जस्टिस मुरलीधर के तबादले से हैरानी हुई. सरकार न्याय का मुंह बंद करना चाहती है.

प्रियंका गांधी वाड्रा के बाद कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ट्वीट किया और कहा, ‘बहादुर जज लोया को नमन, जिनका ट्रांसफर नहीं किया गया था.’

 

इस हिंसा की चपेट में आने से अब तक 35 लोगों की मौत हो चुकी है. गुरुवार को ही अब तक 7 लोगों के मौत की खबर है. इसमें गगनविहार के जोहरीपुर एक्सटेशन डबल पुलिया के नाले से मिली दो लाशें शामिल हैं. फिलहाल, लाशों की पहचान की जा रही है. इसके अलावा जीटीबी हॉस्पिटल समेत कई अस्पतालों में 200 से अधिक घायलों का इलाज चल रहा है.

दिल्ली हिंसा पर राष्ट्रपति से मिले सोनिया-प्रियंका-मनमोहन, गृह मंत्री को हटाने की मांग Read More

अरुणाचल में कांग्रेस को बड़ा झटका, 43 विधायक BJP समर्थित PPA में शामिल

prema_650_091616021031अरुणाचल प्रदेश में कांग्रेस को एक बड़ा झटका लगा है. 46 एमएलए के साथ मुख्यमंत्री पेमा खांडू ने पार्टी को छोड़ दिया है. 60 सदस्यों वाली विधानसभा में कांग्रेस के 46 विधायक हैं, जबकि 11 विधायक बीजेपी के हैं|

पीपीए का दामन थामा
अरुणाचल प्रदेश में कांग्रेस के 46 में से 43 विधायकों ने पीपीए का दामन थामा है. एक बार फिर से कांग्रेस पर संकट खड़ा हो गया है. बागियों में अरुणाचल के मुख्यमंत्री के अलावा दिवंगत दोरजी खांडू के बेटे और वर्तमान में राज्य के सीएम पेमा खांडू भी हैं. खांडू ने कहा, ‘मैंने विधानसभा अध्यक्ष से मुलाकात करके उन्हें यह सूचना दी है कि हमने कांग्रेस का पीपीए में विलय कर दिया है. राज्य में कांग्रेस के 46 विधायक हैं जिनमें से 43 इस पार्टी में शामिल हो गए हैं. पीपीए का गठन 1979 में हुआ था. यह 10 क्षेत्रीय दलों के नॉर्थ-ईस्ट डेमोक्रेटिक एलायंस का हिस्सा रहा है जिसका गठन बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने मई 2016 में की थी. वर्तमान में असम में बीजेपी के नेता हेमंता विश्व सरमा इसके प्रमुख हैं|

जुलाई में खांडू को मिली थी कमान
कांग्रेस का अरुणाचल का संकट काफी पुराना है. सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद नाटकीय घटनाक्रम के बाद जुलाई में नबाम तुकी के स्थान पर पेमा खांडू को मुख्यमंत्री घोषित करके एक लंबी चली लड़ाई को जीता था. खांडू के विधायक दल का नेता चुने जाने के बाद दो निर्दलीयों और 45 पार्टी विधायकों के समर्थन से कांग्रेस ने एक बार फिर सरकार बना ली थी. तेजी से बदले घटनाक्रम के बाद बागी नेता खालिको पुल अपने 30 साथी बागी विधायकों के साथ पार्टी में लौट आए थे. पुल बागी होकर मुख्यमंत्री बने थे, जिन्हें सुप्रीम कोर्ट ने अपदस्थ कर दिया था|

60 सदस्यीय अरुणाचल प्रदेश विधानसभा में कांग्रेस के 46 विधायक थे जबकि बीजेपी के 11. अब 43 विधायकों के पीपीए में चले जाने के बाद कांग्रेस में पूर्व सीएम नबम तुकी और इक्का-दुक्का विधायक ही बचे रह गए हैं. हाल में पूर्व सीएम कलिखो पुल का निधन हो गया था. फरवरी 2016 में उन्होंने 24 कांग्रेसी विधायकों के साथ पीपीए ज्वाइन किया था|

इसके बाद सुप्रीम कोर्ट का फैसला आया था जिसमें अदालत ने कलिखो पुल सरकार को असंवैधानिक घोषित कर पूर्व की कांग्रेस सरकार को बहाल करने का आदेश दिया था. इसके बाद पेमा खांडू के नेतृत्व में कांग्रेस की सरकार बनी थी. ताजा घटनाक्रम के बाद एक बार फिर बाजी बीजेपी के हाथ जाते दिख रही है|

 

 

Source: AAj Tak

अरुणाचल में कांग्रेस को बड़ा झटका, 43 विधायक BJP समर्थित PPA में शामिल Read More

26 साल बाद कांग्रेसी ‘युवराज’ का अयोध्या दौरा

160110200529_rahul_gandhi_624x351_afpgettyशुक्रवार, नौ सितंबर, 2016 की सुबह साढ़े नौ-दस बजे के आसपास जब राहुल गांधी अयोध्या की प्रसिद्ध हनुमान गढ़ी में दर्शन करेंगे तो वे बाबरी मस्जिद कांड के बाद अयोध्या जाने वाले नेहरू-गांधी परिवार के पहले वंशज होंगे.

1989 में तत्कालीन प्रधानमंत्री और राहुल के पिता राजीव गांधी ने कांग्रेस के लोक सभा चुनाव प्रचार की शुरुआत अयोध्या से की थी, हालांकि वे हनुमान गढ़ी नहीं जा पाए थे, हालांकि यह उनके कार्यक्रम में था.

1989 में तत्कालीन प्रधानमंत्री और राहुल के पिता राजीव गांधी ने कांग्रेस के लोक सभा चुनाव प्रचार की शुरुआत अयोध्या से की थी, हालांकि वे हनुमान गढ़ी नहीं जा पाए थे, हालांकि यह उनके कार्यक्रम में था.

1990 में सद्भावना यात्रा के दौरान राजीव गांधी का गुज़र अयोध्या से हुआ था.

लेकिन तबसे हनुमान गढ़ी तो दूर, अयोध्या भी उनके परिवार का कोई कांग्रेसी नहीं गया. सोनिया ने फैज़ाबाद में तो सभाएं कीं लेकिन अयोध्या से वे दूर ही रहती आई हैं.

वैसे, राजीव अयोध्या में हनुमान गढ़ी दर्शन से कहीं ‘बड़ा’ काम कर चुके थे जिसके बल पर उन्होंने 1989 के उस चुनावी सभा में ‘राम-राज्य’ लाने का वादा किया था.

राहुल गांधी का हनुमान गढ़ी के दर्शन करने का कार्यक्रम पहले नहीं था. बुधवार की रात अचानक इसे उनके कार्यक्रम में जोड़ा गया. जोड़ा यह भी गया कि अयोध्या के बाद जब वे रोड शो करते हुए अम्बेडकरनगर जाएंगे तो किचौछा शरीफ़ दरगाह पर भी मत्था टेकेंगे.

राहुल इस समय उत्तर प्रदेश के विभिन्न शहरों-कस्बों में रोड शो कर रहे हैं. उनकी यात्रा को ‘किसान यात्रा’ का नाम दिया गया है. राहुल की यह यात्रा देवरिया से अपनी शुरुआत ही में ‘खाट-प्रकरण’ के कारण चर्चा या विवाद में आ गई. सोशल साइटों पर तब से ‘खाट’ ट्रेंड कर रहा है.

देवरिया के बाद राहुल को गोरखपुर, गोण्डा होकर शुक्रवार को अयोध्या-फैज़ाबाद में रोड शो और किसानों से मुलाक़ात करते हुए अम्बेडकर नगर जाना था. “खाट-प्रकरण” उनके साथ-साथ चल रहा था लेकिन अब हनुमान गढ़ी का दर्शन उनके कार्यक्रम में जुड़ जाने से फोकस बदल गया लगता है.

क्या कांग्रेसी रणनीतिकारों ने ‘किसान यात्रा’ में ऐन वक्त पर ‘मंदिर टच’ जान-बूझ कर दिया है? क्या राहुल के हनुमान गढ़ी दर्शन से कांग्रेस कोई ख़ास संदेश यू पी के मतदाताओं को देना चाहती है? क्या आने वाले विधान सभा चुनाव में भाजपा की काट के लिए कांग्रेस को थोड़ा हिंदू-झुकाव भी ज़रूरी लग रहा है?

जिन ब्राह्मण वोटों पर इस बार कांग्रेस सबसे ज़्यादा ज़ोर दे रही है, क्या राहुल का हनुमान गढ़ी प्रवेश उसे आसान बना देगा?

कई सवाल एकाएक उछलने लगे हैं.

राहुल के हनुमान गढ़ी में पूजन-अर्चन को 27 साल पहले की उनके पिता की रणनीति से जोड़कर भी देखा जाने लगा है.

राजीव गांधी ने अपने दोस्तों-सलाहकारों के कहने पर बाबरी मस्जिद मामले में कई तरह के फ़ैसले लिए थे: 1989 में विश्व हिंदू परिषद को अयोध्या के विवादित क्षेत्र में राम मंदिर के शिलान्यास की इजाज़त दी थी. इसकी परिणति छह दिसम्बर, 1992 को बाबरी मस्जिद ध्वंस में हुई, जिसने कांग्रेस को अपने व्यापक मुस्लिम जनाधार से वंचित कर दिया.

27 साल से कांग्रेस यूपी की सत्ता से बाहर है. ’27 साल यूपी बेहाल’ का नारा लेकर इस बार वह नए चुनावी प्रबंधन कौशल से प्रदेश में पैर जमाने निकली है. ये 27 साल यूपी में कांग्रेस की बदहाली के भी हैं. क्या इस बदहाली को दूर करने के लिए राहुल को अयोध्या और हनुमान गढ़ी की यात्रा ज़रूरी लग रही है?

बताया तो यह जा रहा है कि अयोध्या-फैज़ाबाद से कांग्रेस का टिकट चाहने वालों ने, जिनमें एक महंत भी हैं, राहुल के सलाहकारों तथा कांग्रेस के रणनीतिकारों पर दवाब बनाया और तब बुधवार की रात राहुल के हनुमान गढ़ी जाने का कार्यक्रम तय हुआ.

उन्हें यह समझाया गया कि सोनिया गांधी अपने वाराणसी रोड शो में काशी-विश्वनाथ के दर्शन नहीं कर पाई थीं. बहाना उनकी बीमारी बना लेकिन हिंदुओं में चर्चा यह रही कि रोड शो में बड़ी संख्या में मुस्लिम उपस्थिति देख कर सोनिया बाबा विश्वनाथ के दर्शन करना टाल गईं.

राहुल और उनके सलाहकारों की रणनीति यदि इस बहाने हिंदू-कार्ड चलना है तो इतिहास में, विशेषकर राजीव गांधी की मंदिर-चाल में उनके लिए एक बड़ा सबक़ तो हो ही सकता है, यदि वे उस ओर देखना चाहें.

तनिक वाम झुकाव वाली कांग्रेस की मध्यमार्गी नीति से किनारा करते हुए राजीव गांधी ने 1986 से 1989 के बीच हिंदू झुकाव का जो रास्ता अपनाया उसने जहां देश को विकास के मार्ग से भटका कर धर्म की राजनीति का अखाड़ा बना दिया वहीं कांग्रेस पार्टी के धीरे-धीरे अप्रासंगिक होते जाने का रास्ता भी तैयार कर दिया था.

धर्म की राजनीति करने के लिए दूसरी पार्टियां अखाड़े में पहले से मौजूद थीं. विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल जैसे संगठनों की सहायता से भाजपा ने फ़ौरन राम मंदिर को चुनावी राजनीति का मुख्य मुद्दा बना डाला.

आज भी राहुल और उनकी कांग्रेस इस मामले में भाजपा का क़तई मुकाबला नहीं कर सकते. भाजपा को टक्कर देने के लिए उस ही की तरह बनने की कोशिश करने की बजाय कांग्रेसी मूल्यों की पुनर्स्थापना क्या बेहतर तरीक़ा नहीं होगा?

जिस निचले पायदान पर आज कांग्रेस खड़ी है वहां से उसे वापसी का रास्ता ढूंढना है. उससे नीचे मोदी जी का ‘कांग्रेस मुक्त भारत’ है और वहां कांग्रेस निश्चय ही नहीं लुढ़कना चाहेगी.

Image copyright

आश्चर्य है कि राहुल अपने रोड शो और किसान पंचायतों में सीधे नरेंद्र मोदी और उनकी ‘सूट-बूट की सरकार’ को निशाना बना रहे हैं. उनके प्रचार का अंदाज़ लोकसभा चुनाव की याद दिलाता है.

चुनाव यूपी के होने हैं और यहां सत्तारूढ़ समाजवादी पार्टी उनकी आलोचना का केंद्र नहीं है. इस प्रदेश की बदहाली को दूर करने का कोई रोड मैप उनके मुंह से नहीं सुनाई देता.

किसानों की ऋण माफी का मुद्दा वे सीधे विजय माल्या से जोड़ते हैं लेकिन मुख्यमंत्री पद की अपनी उम्मीदवार ‘दिल्ली का कायाकल्प कर देने वाली’ शीला दीक्षित को प्रदेश के मतदाताओं से परिचय नहीं करा रहे.

बहरहाल, देखना होगा कि 27 साल बाद अयोध्या आ रहे पहले कांग्रेसी युवराज हनुमान गढ़ी दर्शन-पूजन के बाद किस तेवर में दिखाई देते हैं!

Source : BBC hindi

26 साल बाद कांग्रेसी ‘युवराज’ का अयोध्या दौरा Read More

‘Pappu Pass Hoga’, Congress Workers In Varanasi Insist Today

sonia-gandhi-road-show_650x400_51470126232Varanasi: At 1 pm in Varanasi, there is no escape from the sun. Or the politics that the city is awash in today as it contemplates what sort of pulling power Congress chief Sonia Gandhi will demonstrate on the turf that Prime Minister Narendra Modi so decisively established as his own in the general election.

“The crowds will come. They will build up, you wait,” says Mohammed Isa, who runs a fishing business. Mr Isa says he voted for the Congress in 2014 and is likely to repeat his decision in the state election. “It is true the Congress will not win,” he says, “but who else will I vote for?  As Muslims, my family has always voted for the Congress.

He is seated at a small stall that sells cold drinks and eggs opposite the Dr Ambedkar statue that the Congress chief will garland. Her road show will end with a visit to the statue of Kamalapati Tripathi  to signal that the Congress should be the choice of a range of castes, from Brahmins to Dalits.

“Since Prime Minister Modi was elected, it is true that roads have improved here,” Mr Isa says. The improvement in Varanasi, from better roads to cleanliness, is acknowledged freely as the result of the PM making this his political home.

At the statue of Dalit icon Dr Ambedkar, Congress workers, their head scarves limp with sweat, climb up a ladder to clean the structure. So far, at this major intersection, the crowds are thin. A few Congress workers carry the placards of the local lawmaker who has rustled them together. One comes up. “I am seeking a ticket. If you can speak to anyone, please let me know,” he says, without inquiring who his query is being addressed to.

It is a testament to how today politics is the only thing on the city’s mind. Anil Dikshit, a taxi driver, says the BJP, who he supported in 2014, will make big gains. “In my village, it took me just a month to get a bank account opened,” he said of the PM’s Jan Dhan scheme to ensure all families have a bank account.

At the cold drinks stall, a group of Congress workers take refuge from the sun. “You can pay later, first have some cold water,” says the young owner, Wasim Akram, to them. “It is not a usual day,” he offers as explanation for his freewheeling business practice today.

One of the young Congress supporters gets up to be interviewed on camera. “Pappu fail nahin hua, Pappu pass hoga,” he insists loudly, referring to the mocking nickname given by PM Modi during his 2014 campaign to Mrs Gandhi’s son, Rahul.

That is the sort of bluster that is running through the streets today in a state where the Congress placed last in the general election.

‘Pappu Pass Hoga’, Congress Workers In Varanasi Insist Today Read More
vijay bahuguna and 9 mla of congress joined bjp

विजय बहुगुणा सहित 9 बागी विधायक बीजेपी में शामिल

vijay bahuguna joined bjpउत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा और उनके सहयोगी कांग्रेस के 9 बागी विधायक भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए | जिसमे  विजय बहुगुणा, हरक सिंह रावत, अमृता रावत, कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन, सुबोध उनियाल, उमेश शर्मा काऊ, प्रदीप बत्रा, शैलारानी रावत, शैलेंद्र मोहन सिंघल हैं |

राज्य में यह स्थिति तब पैदा हुई थी जब रावत सरकार के बजट सत्र का विरोध हुआ | भाजपा का कहना था बजट को वायस वोट से पारित करना असंवेधानिक है | जब कांग्रेस के 9 विधायक ने विरोध किया विधानसभा स्पीकर ने उन्हें निलंबित कर दिया और मामला अदालत में पहुँच गया |
हरीश रावत सरकार को विश्वास मत की तारीख से एक दिन पहले केंद्र सरकार ने उत्तराखंड पर राष्ट्रपति शासन लगा दिया |

बाद में सुप्रीम कोर्ट ने विश्वास मत की नई तारीख घोषित की और बागी विधायकों के स्पीकर द्वारा निलंबन के आदेश को बरक़रार रखा |

मायावती के सपोर्ट से हरीश रावत विधानसभा में विश्वास मत हासिल करने में कामयाब हो गए | अब ये बागी विधायक की स्थिति उस धोबी के गधे जैसी थी न घर के न घाट के | बीजेपी इन विधायकों में अपना अगला आने वाला भविष्य देखते हैं लेकिन कुछ भाजपाईयों ने इसका विरोध भी किया | 9 बागी विधायकों को बीजेपी में शामिल करना पूर्व नियोजित सा दिख रहा है | भाजपा के लिए यह निर्णय कैसा रहेगा यह तो बाद में पता चलेगा लेकिन अभी 9 बागी विधायक भाजपा में मिलकर अपनी स्थिति को मजबूत कर लिया है |

एडिटर : चन्द्रशेखरम

 

विजय बहुगुणा सहित 9 बागी विधायक बीजेपी में शामिल Read More

अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर डील: PM मोदी के बयान पर लोकसभा से कांग्रेस का वाकआउट

111605-445533-parliament27.12.15 Indian helicopter bribery scandal
नई दिल्ली  : कांग्रेस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा तमिलनाडु की एक चुनावी रैली में 3600 करोड़ रूपये के अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर सौदा मुद्दे पर इतालवी अदालत द्वारा सोनिया गांधी का नाम लिए जाने संबंधी कथित बयान दिए जाने का मुद्दा आज लोकसभा में उठाया और कहा कि प्रधानमंत्री के ऐसे बयान से प्रवर्तन निदेशालय और सीबीआई जांच प्रभावित हो सकती है।

लोकसभा अध्यक्ष से इसे तत्काल उठाने का मौका नहीं मिलने पर कांग्रेस सदस्यों ने सदन से वाकआउट भी किया। हालांकि वे कुछ देर बाद वापस आ गए। निचले सदन में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे तत्काल “Indian helicopter bribery scandal” उठाने देने की मांग कर रहे थे। हालांकि अध्यक्ष ने शून्यकाल के दौरान तृणमूल कांग्रेस के इदरिश अली का नाम पुकारा। कांग्रेस सदस्यों ने इसका विरोध किया।

खड़गे ने कहा कि इस मामले की जांच चल रही है और प्रधानमंत्री ऐसे बयान देते हैं तब इससे प्रवर्तन निदेशालय और सीबीआई जांच प्रभावित होगी। यह इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि चर्चा के दौरान किसी ने किसी का नाम नहीं लिया था तब प्रधानमंत्री ऐसा कैसे कर सकते हैं। हम ऐसे बयान की निंदा करते हैं। इसके बाद कांग्रेस सदस्यों ने सदन से वाकआउट किया।

 

 

अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर डील: PM मोदी के बयान पर लोकसभा से कांग्रेस का वाकआउट Read More